Yatanao Se Kisi ki-यातनाओं से किसी की

यातनाओं से किसी की भावनाएँ कब मिटी हैं।
कठिन दुर्गम श्रंग से क्या प्रबल सरिताएँ रुकी हैं॥

क्या सका है रोक कोई शलभ को लौ में जलन से।
च्युत किया क्या यातना ने वीर को कर्तव्य पथ से
लौह दुर्बल द्वार से क्या शक्तियाँ भी रुक सकी है॥१॥

यातना प्रह्लाद ने भी थी सही निज ध्येय पथ पर
दृढ़ रहा था वीर राणा ध्येय पर कटिबध्द होकर
यातना से भावना तो स्वर्ण- सम उज्ज्वल हुई है॥२॥

यातना उस वीर बंदा ने सहि हँसते बदन से
सुत -कलेवर भी खिलाया ना हटा वीर प्रण से
यातना पर यातनाएँ वीर का कुछ कर सकीं हैं॥३॥

गुरु -सुतों का क्या किया था याद हैं वे यातनाएँ
क्या हकीकत का किया था याद वे जलती व्यथाएँ
दृढ़ ह्रदय के सामने तो यातनाएँ ही थकी हैं॥४॥

यातनाएँ बहिन-सम हैं भावनाएँ स्वर्ण -सम हैं
यातना यदि शस्त्र है तो भावना भी आत्मसम है
यातनाओं से सदा ये भावनाएँ दृढ़ हुई हैं ॥५॥

यातनाएँ ही मिली थीं कंस से उस देवकी को
भावनाओं ने दिया था जन्म उन श्रीकृष्ण जी को
यातनाओं ने भावना में शक्तियाँ प्रकटित हुई हैं ॥६॥

yātanāoṁ se kisī kī bhāvanāe kaba miṭī haiṁ |
kaṭhina durgama śraṁga se kyā prabala saritāe rukī haiṁ ||

kyā sakā hai roka koī śalabha ko lau meṁ jalana se |
cyuta kiyā kyā yātanā ne vīra ko kartavya patha se
lauha durbala dvāra se kyā śaktiyā bhī ruka sakī hai ||1||

yātanā prahlāda ne bhī thī sahī nija dhyeya patha para
dṛṛha rahā thā vīra rāaṇā dhyeya para kaṭibadhda hokara
yātanā se bhāvanā to svarṇa- sama ujjvala huī hai ||2||

yātanā usa vīra baṁdā ne sahi hasate badana se
suta -kalevara bhī khilāyā nā haṭā vīra praṇa se
yātanā para yātanāe vīra kā kucha kara sakīṁ haiṁ ||3||

guaru -sutoṁ kā kyā kiyā thā yāda haiṁ ve yātanāe
kyā hakīkata kā kiyā thā yāda ve jalatī vyathāe
dṛṛha hradaya ke sāmane to yātanāe hī thakī haiṁ ||4||

yātanāe bahina-sama haiṁ bhāvanāe svarṇa -sama haiṁ
yātanā yadi śastra hai to bhāvanā bhī ātmasama hai
yātanāoṁ se sadā ye bhāvanāe dṛṛha huī haiṁ ||5||

yātanāe hī milī thīṁ kaṁsa se usa devakī ko
bhāvanāoṁ ne diyā thā janma una śrīkṛṣṇa jī ko
yātanāoṁ ne bhāvanā meṁ śaktiyā prakaṭita huī haiṁ ||6||

Leave a Reply