इससे पूर्व आपने ककारादिकालीसहस्रनामस्तोत्रम् का मूल पाठ को पढ़ा। अब यहाँ इसके केवल हिंदी भावार्थ को व केवल ककारादिकालीसहस्रनामावली दिया जा रहा है। पाठकों से अनुरोध कि- इसे न मनोरंजन की दृष्टि से देखें न ही प्रयोग करें क्योंकि इसमें काली माता के गूढ़ रहस्य दिया गया है जिसमें की पञ्चमकार साधना प्रणाली निहित है जिसे की उच्चकोटि के साधक जिन्होंने की भैरवी सिद्ध कर रखी हैं, के द्वारा संभव है सामान्य साधकों के लिए नही। सामान्य साधक काली माता की सात्विक साधना ही संपन्न करें।

|| ककारादिकालीसहस्त्रनामस्तोत्रम् हिंदी भावार्थ व सहस्रनामावली ||

ध्यान-शवारूढ़, महाभीम, घोरदंष्ट्रावाली, हँसते हुए मुखवाली, चार भुजाओंवाली (और चारों) हाथों में खड्ग, मुण्ड, वर और अभयमुद्रा धारण करनेवाली। मुण्डमाला धारण करनेवाली, लपलपाती जीभवाली, दिगम्बर, श्मशानालयवासिनी इस प्रकार (के स्वरूपोंवाली) शिवादेवी काली का चिन्तन करना चाहिए ॥ १-२॥

अनकानेक देवगणों से युक्त, वृक्षलता और पुष्पों से सुशोभित, अति सुन्दर कैलाश नाम का पर्वत है। वहीं पर चारों ओर से घिरे हुए श्रृंगारमण्डप के बीच में समाधि में संलग्न शान्त, आत्माराम और योगिनियों से सेवित मुनि का रूप धारण किये हुए भगवान शंकरजी से पार्वती ने प्रश्न किया अर्थात् पूछा । पार्वती ने कहा-हे देवाधिदेव!आप किसका जप करते हैं और किसे स्मरण करते हैं। यह सम्पूर्ण संसार किसमें लीन होता है और इस सृष्टि की उत्पत्ति किस प्रकार से होती है? इस ब्रह्माण्डरूपी कार्य का सबसे आद्य एवं महान् कारण क्या है? ॥१-४॥

मनारथमयी, वांछामयी, कल्पनामयी, कोटिसिद्धि, ईश्वरत्वसिद्धि, अट्ठारह प्रकार शक्तिसंपात, चराचर जगत् में अव्याहतगति। महेन्द्रजाल, महेन्द्रजाल, इन्द्रजालादि का निर्माण ॥ ५-६॥

अणिमा आदि आठ सिद्धियाँ, परकाया प्रवेश, नवीन सृष्टि की रचना करने की सामर्थ्य, समुद्र शोषण । अमावास्या और दिन के समय चन्द्रमा का दर्शन तथा आठों दिशाओं में प्रत्येक दिशा में चन्द्रदर्शन एवं सूर्यदर्शन, जल में जलमयत्व, अग्नि में अग्निमयत्व, ब्रह्मा, विष्णु और इन्द्रादि देवताओं के निर्माण की क्षमता ॥ ७-९॥

जिससे पाताल की सभी वस्तुएँ दिखाई पड़ती हैं, ऐसी पाताल-गुटिका । यक्ष और बैताल के तुल्य अदृश्य और प्रकट होना। रसायनसिद्धि और सभी जगह गोपनीय हो जाना तथा सम्पूर्ण संसार की वस्तुओं को प्रत्यक्ष कर देनेवाला अञ्जन । इस प्रकार हे शिव! महा मधुमती एवं पद्मावती सिद्धि, भोगवती आदि सिद्धियों की प्राप्ति इस पाप से युक्त कलियुग में और दीर्घायु की प्राप्ति किस प्रकार से होती है॥१०-१२॥

शिव ने कहा-हे प्रिये! मंत्र, जप के बिना, स्तोत्र पाठ के बिना,तपस्या के बिना, बलि, अङ्गन्यास और भूतशुद्धि के बिना । ध्यान, यंत्र और पूजा के बिना, मानसिक क्लेश के बिना एवं शरीर के दुःख के बिना॥१३-१४॥

मनुष्यों को जिस प्रकार सिद्धि प्राप्त होती है, वह उपाय मैं तुम्हें बता रहा हूँ। पचास हजार योजन की वसुन्धरा से युक्त इस ब्रह्माण्डगोलक का ज़ब प्रलय हो जाता है और पाँचों तत्त्वों से सृष्टि (पूर्णरूप) से शुन्य हो जाती है । उस समय तारा नाम से प्रसिद्ध महाकाली ही शेष रह जाती है। हे देवि! उस समय अनंतकोटि ब्रह्माण्डों की रचना करनेवाले ब्रह्मादि भी तुम्हारे दाँत के ग्रास बन जाते हैं तथा महाप्रलय का भार उन्हीं पर स्थापित कर भगवती महाकाली उस शून्य में अपना काला वर्ण बनाकर वाणी से अतीत परा कला के रूप में खेलती हैं ॥१५-१७॥

फिर सष्टि के आरम्भकाल में उसी भगवती (काली) से छाया के रूप में इच्छाशक्ति का निर्माण होता है, जिससे महाकाल की उत्पत्ति होती है। उस समय वह इच्छाशक्ति स्वयं ज्ञानरूप में परिवर्तित हो जाती है। इस प्रकार की विशिष्टताओं से युक्त विज्ञान की उत्पत्ति होती है, फिर स्वयं महेश्वरी अपनी इच्छा से क्रियारूप में परिवर्तित हो गई। इस प्रकार हे देवि! इस संसार में उसी क्रिया ने फिर से समस्त स्थानों में उन-उन देवताओं का स्थापित किया। (इस) ब्रह्माण्ड में समता के रूप में रहनेवाली उस देवी की इसी क्रिया को इच्छा कहते हैं। हे पार्वति! इसे भलीभाँति जानो ॥१८-२२॥

परब्रह्मस्वरूप वह परमात्मा शिव ही भगवती (काली) की इच्छा के रूप में रहने के कारण निर्गुण, शान्त और सच्चिदानंद के विग्रहरूप में अवतरित हुए । उस शाश्वत, सुन्दर, स्वच्छ, सर्वदेवयुक्त, आदिनाथ, निर्गुण, शिव को काली में विपरीत, रति से आसक्त देखकर देवताओं, गन्धर्वो और अप्सराओं का समूह पूजा करने के लिए वहाঁ (स्वयं) आया ॥ २३-२५॥

यक्षिणी, किन्नरी, उर्वशी और तिलोत्तमा आदि को वहाँ उपस्थित देखकर शिवप्राणवल्लभा महाकाली ने महाकाल अर्थात् शिवजी से कहा। त्रैलोक्यसुंदरी, प्राणस्वामिनी, प्राणरञ्जिनी महाकाली ने उन सभी अप्सराओं को वहां उपस्थित देखकर उनके आने का कारण उन सभी से पूछा । उन अप्सराओं ने कहा-हमारे भाग्यरुपी सागर का आज उदय हुआ है, ऐसा कहकर उन अप्सराओं ने मौन होकर शिव की पूजा की। अप्सराओं ने कहा-हे संसार का प्रिय करनेवाले भगवान शंकर! आप इस संसार के निर्माण करने में संलग्न दिखाई पड़ रहे हैं । इसलिए हे देव! सृष्टि के आरम्भ रूप कार्य के शुभ के लिए हम लोगों को गाने की आज्ञा प्रदान करें, क्योंकि हम वेश्याओं के लिए यही उपयुक्त है । हे शिवशंकर! जैसे कि यात्रा और उत्सव कार्य में गाना शुभ होता है, उसी प्रकार से त्रिगुणात्मक सृष्टि के आरम्भ होने के कारण शुभ गायन करना आवश्यक है।। २६-३०॥

इस सृष्टि रूप कार्य के लिए विपरीत रति में लगे हुए आपके दर्शन के लिए आप दोनों से ही उत्पन्न हुई करोड़ों इन्द्राणी, ब्रह्माणी और वैष्णवी शक्तियाँ (यहाँ) उपस्थित हुई है। हे सौख्यसागर! वे समस्त शक्तियाँ लज्जायुक्त होकर आपके सम्मुख खड़ी हैं। हे महेश्वर! स्त्रियों को रति से बढकर और कोई अन्य सुख नहीं है, इसीलिए वह सुख को प्रदान करनेवाला रति हम लोग आनन्द से यहाँ देख रहे हैं । ३१-३३॥

हमलोग भी सृष्टि के लिए अपने पतियों से इसी प्रकार की रति (क्रिया) करना चाहते हैं। अप्सराओं की इस प्रकार की बात को श्रवण कर ध्यान में स्थित महादेव ने अपने ध्यान का परित्याग कर दिया और महाकाली से बोले-हे कालि! हे महाकालि! हे रुण्डमाले! हे भैरवी! हे शिवारूपधारिणी! हे क्रूरे! हे भयानक दाँतों से युक्त भगवति! (इस संसार की) अनेक तीनों लोकों की सुन्दरियाँ, कामिनियाँ हमारे सम्मुख हैं ।। ३४-३६॥

हे कालि, हे प्रिये, हे शिवे! इन सुन्दरियों को तुम देखो । अपने ध्यान का परित्याग कर दो, देखो, ये सभी सन्दरियाँ अपने-अपने गृहों को जा रही हैं । हे महाकाली! तुम्हारा रूप तो मात्र महाकाल को ही मनोहर (सुन्दर) दिखाई पड़ता है। किन्तु ये (सभी) अप्सरायें तीनो लोकों को भी मोहित कर लेती हैं। जब माया के वशीभूत उस महाकाल अर्थात् शिव ने महाकाली से इस प्रकार कहा, तब काली ने महाकाल अर्थात् शिवजी से यह कहा ॥ ३७-३९॥

स्त्री का रूप धारण करनेवाली महाकाली ने माया द्वारा अपने को मोहित कर लिया और वे महादेव से (यह) बोली । आज से प्रत्येक युग (चारों युग) में हर योनियों में स्त्रियाँ पैदा होंगी। लता औषधियाँ आदि दिन में लता और औषधि के रूप में दिखाई पड़ेंगी। किन्तु रात्रि के समय ये सभी स्त्रीरूप धारण कर आपस में रतिक्रीड़ा करेंगी ॥ ४०-४१॥

इन्हें प्रत्येक युग में अज्ञान होगा, ऐसा शाप देकर कालिका फिर बोली। जो लोग विपरीत रति में आसक्त होकर मेरा ध्यान एवं भजन करेंगे। मैं उन्हें वर प्रदत्त करुँगी और उनके यहाँ निवास करूँगी । ऐसा कहकर वह छत्तीस खरब छियानबे अरब करोड़ों संख्यावाली कालीरूपी महाविद्या वहीं अदृश्य हो गई ॥ ४२-४४॥

तब शिवजी ने कहा, हा प्राणप्रिये, हा शिवे! तुम कहाँ चली गई? ऐसा अनेकानेक बार विलाप करते हुए तप करने लगे। अब मैं क्या करूँ, अब मैं कहाँ जाऊँ ? इस प्रकार भ्रम में पड़े हुए शिवजी को देखकर उस महाकाली के हृदय में दयाभाव आ गया कि शिवजी हमारे बिना व्याकुल हो रहे हैं । तब काली ने यंत्र में अपने छिपे रहने की बुद्धि विस्तार से शिवजी को बताई। उसी समय से श्रीचक्ररूपी यंत्रयाग में विन्दु के द्वारा महाकाली का दर्शन होने लगा ॥ ४५-४७॥

श्रीचक्ररूपी यंत्र के प्रस्तार की रचना का अभ्यास करनेवाले शिव ने चक्र के बीच में अवस्थित इधर से उधर भ्रमण करते हए त्रिलोकी का दर्शन किया। फिर चक्र के परे भगवती के दर्शन के लिए करोड़ों व अरबों वर्ष व्यतीत हो गए। किन्तु शिवजी को भगवती के दर्शन प्राप्त नहीं हुआ। इसके पश्चात् ही चक्र के परे विन्दु में भक्तप्राणप्रिया श्रीचक्र की नायिका भगवती का जाग्रत दिव्य मनोहररूप दिखाई पड़ा। श्रीचक्र के विन्दु में त्रिपुरसुन्दरी भगवती के उस (दिव्य) रूप को देखकर महादेव अर्थात् शिव ने राजराजेश्वर का रूप धारण कर लिया, उस समय भगवती के कटाक्षमात्र देखने से ही शिवजी त्रिपुरसुन्दरी के रूप में परिवर्तित हो गए ।। ४८-५१।।

शिवजी को त्रिपुरसुन्दरी के रूप में (परिवर्तित) देखकर महाकाली महेश्वरी श्रृङ्गार से शून्य हो गई और सम्पूर्ण स्थावर-जंगमात्मक संसार काली के अंश से रहित हो गया। महेश्वरी महाकाली के श्रृङ्गार शून्य हो जाने के कारण त्रिलोकी की शक्ति समाप्त हो गई। उसमें कोई श्रृङ्गार-सज्जा भी न रह गई। उस समय त्रिपुरसुन्दरी ने महाकाली की प्रार्थना की, जिससे प्रसन्न होकर महाकालिका ने त्रिपुरसुन्दरी से कहा। हे देवेशि! हे प्रिये! समस्त प्राणियों के पूर्वावस्था में नेत्र और केशों पर मेरा अंश बना रहेगा । उस पूर्वावस्था में युवाअवस्था में, मेरा अंश स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ेगा । युवाअवस्था के चले जाने के पश्चात् मेरे अंश का लोप हो जाएगा, किन्तु मेरे भक्तों पर मेरी छाया सदैव निश्चित रूप से बनी रहेगी ॥ ५२-५५॥

फिर भी त्रिपुरसुन्दरी की शक्ति क्षीण हो गई और रूप भी सुन्दर न हुआ। इसलिए वह दुःखित हो चिन्ताग्रस्त हो गई। फिर क्षणभर अवस्थित रहकर वह महाकाली का ध्यान करने लगी। क्षणभर में ही महेश्वरी महाकाली प्रसन्न हो गई और त्रिपुरसुन्दरी से बोलीं-हे त्रिपुरसुन्दरि! (मुझसे) वर माँगो, (मुझसे) वर माँगो। त्रिपुरसुन्दरी बोलीं-हे महेश्वरि! मुझे जो वरदान चाहिए, वही वर मुझे दो। मुझे सिद्धि प्रदान करो और उस उपाय को भी बताओ, जिससे मुझमें शक्ति आ जावे॥ ५६-५८ ॥

तब महाकाली बोलीं-मेरे द्वारा पहले से ही बनाया हुआ मेरा सहस्त्रनाम है । उसमें ककाररूप से मेरा स्वरूप विद्यमान है । जो महासाम्राज्य को प्रदत्त करनेवाला है । उस सहस्रनाम का दूसरा नाम ‘वरदान’ ही है । जो क्षणमात्र में सम्पूर्ण इच्छाओं को पूर्ण करता है। हे महामाये! मेरे उस सहस्रनाम का पाठ करो। तुम्हें (नि:संदेह)शक्ति प्राप्त होगी। तभी से श्रीविद्या त्रिपुरसुन्दरी उस महाकाली के सहस्रनाम का पाठ करती है (करने लगी)। यह वही काली सहस्र नाम है, जो त्रिपुरसुन्दरी को भी शक्ति प्रदान करनेवाला है। उस काली सहस्रनाम को हे पार्वती! मैं तुमसे कह रहा हूँ,तुम एकाग्रचित्त होकर श्रवण करो ॥ ५९-६२॥

इस सर्वसाम्राज्यमेधादायक कालीसहस्रनाम के (स्वयं) महाकाल ऋषि हैं, उष्णिक् छन्द हैं, दक्षिणमहाकाली देवता हैं, ह्रीं बीज हैं, हूं शक्ति हैं और क्रीं कीलक हैं । कालिका के वरदान से इष्टसिद्धि के लिए विनियोग है। फिर कीलक द्वारा षडङ्गन्यास, करन्यास और पूर्व की भाँति महाकाली का ध्यान कर अपने मनोरथ सिद्धि के लिए कालीसहस्रनाम का पाठ करें ॥ ६३-६५॥

|| श्रीककारादिकालीसहस्रनामावली ||

ॐ अस्य श्रीसर्वसाम्राज्यमेधाकालीस्वरूप-ककारात्मकसहस्रनामस्तोत्रमन्त्राधारनामावलिः महाकाल-ऋषिरुष्णिक्छन्दः, श्रीदक्षिणकाली देवता, ह्रीं बीजम्, ह्रूँ शक्तिः, क्रीं कीलकं, कालीवरदानादिस्वेष्टार्थे जपे विनियोगः ।

न्यास आदि ककारादिकालीसहस्त्रनामस्तोत्रम से करें यहाँ केवल नामावली दिया जा रहा है।

|| ककारादिकालीसहस्त्रनामस्तोत्रम् सहस्रनामावली फलश्रुति ||

क्रींक्रीं ह्रींह्रीं तथा ह्रूं ह्रूं एवं फट्स्वाहामन्त्ररूपिण्यै। रूपमन्त्रवाली (भगवती श्रीमहाकाली) के सर्वसाम्राज्य मेधानामक सहस्रनाममंत्र को मैंने (हे पार्वति!) तुमसे कहा ॥ १८२ ॥

(हे पार्वती) यह काली सहस्रनाम त्रिपुरसुन्दरी को शक्ति प्रदत्त करनेवाला और ककार रूप ही इसका स्वरूप है । महाकाली ने त्रिपुरसुन्दरी को इसका उपदेश दिया था। त्रिपुरसुन्दरी को वर-प्रदत्त करने के प्रसंग से महाकाली के रहस्य को भी मैंने तुम्हें बताया। इसे (सदैव) गोपनीय रखना चाहिए और श्रद्धापूर्वक इसका पाठ करना चाहिए । प्रात:, मध्याह्न और मध्यरात्रि तथा रात्रि के बीच के समय यज्ञकाल, जपकाल में विशेषरूप से इसका पाठ करना चाहिए ॥ १-३॥

जो (साधना करनेवाला) साधक धैर्यता से युक्त होकर इस कालीसहस्रनाम स्तोत्र का पाठ करते हैं, वे एक साल में ही काली के तुल्य शक्तिवान् हो जाते हैं। जो (साधक) इस स्तोत्र को पढ़ते या दूसरों को पढ़कर सुनाते हैं, वह कालिका के तुल्य शक्तिवान् हो जाते हैं। अवज्ञा से जो इस कालीसहस्रनाम का पाठ करते हैं, वे सभी दुःखों से मुक्त हो जाते हैं और शत्रुओं पर विजय प्राप्त करते हैं, इसके साथ ही साथ वे कवि हो जाते हैं। जिस स्त्री के पुत्र मर जाते हैं, वह मृतबन्ध्या और जिसे एक ही पुत्र होता है,उसे काकबन्ध्या एवं केवल पुत्री उत्पन्न करनेवाली पुत्रीबन्ध्या, पुष्प न होनेवाला पुष्पबन्ध्या और शूल से पीड़ा होने के कारण पुत्र प्रसव न करनेवाली शूलबन्ध्या, सर्वथा पुत्र न उत्पन्न करनेवाली बन्ध्या, इस सभी प्रकार की बन्ध्या स्त्रियों को इस स्तोत्र का पाठ अवश्य करना चाहिए। इसका पाठ करनेवालों को सुन्दर कवि और दीर्घायु पुत्र, काली के प्रसाद से प्राप्त होते हैं ॥ ४-७॥

इस कालीसहस्रनाम स्तोत्र का पाठ करने से मनुष्य कीर्ति से युक्त, पांडित्य प्राप्त करते है, इसमें संदेह नहीं है। जिन-जिन कामनाओं की प्राप्ति के लिए मनुष्य महाकाली का ध्यान करते हुए उनके मंत्र का जप करते हैं, वह उन मनोवांछित कामनाओं को प्राप्त कर लेते है। रज, वीर्य, संयोगामृतपुष्प, रजस्वला के पुष्प, कालिपुष्प, योनितोय, पीठतोय, योनिक्षालिततोय से, कस्तूरी, कुमकुम से, नख, कालागुरु, अष्टगंध, धूप, दीप, यव, यावय सयुक्त, लालचंदन, सिंदूर, मत्स्यमांस, भूषण, शहद, चावल, दूध, शुद्ध शोणित सुन्दर रसयुक्त फलादि महोपचार, खून और अति सरस नैवेद्य द्वारा महाकाल की गोद में स्थित महाकाली का पूजन करें। फिर विद्याराज्ञी और कुल्लुका जप करके महाकालीसहस्रनाम का पाठ करें। पाठ करते समय काली में चित्त को लगा दें और पाठकर्ता को सिंदूर का तिलक लगाना चाहिए ॥ ८-१४॥

साधक को पाठ करते समय मुख में ताम्बूल भक्षण कर मुक्तकेश और बिना वस्त्र के रहना चाहिए। शव (मुर्दे) पर स्थित होकर अकेले श्मशान में इसका पाठ करना चाहिए। अकेले घर में, त्रिकोण मध्यगामी बिन्दु के आसन पर या रजोयुक्त स्त्री के साथ और श्रृंगालियों के स्थान पर शयन करने से, खड़े रहकर भोजन करने से काली का दर्शन प्राप्त होता है॥१५-१६॥

उपरोक्त स्थानों पर जो साधक अर्चना करता है, वह अनन्त फल देनेवाला होता है । महाकाली के सहस्रनाम का पाठ करनेवाला साधक ऐश्वर्य में लक्ष्मी के तुल्य, सिद्धि में माता महाकाली के तुल्य ॥१७॥

कविता में श्रीविद्या के तुल्य, सुन्दरता में सुन्दरी के तुल्य, कार्य में समुद्रधारा के तुल्य, श्रुति में श्रुतिधर के तुल्य हो जाता है॥ १८ ॥

त्रैलोक्य के विजय में इंद्र के तुल्य पराक्रमी तथा कलिकाल में शत्रुहन्ता और काव्यकर्ता शिव के तुल्य हो जाता है ॥ १९॥

(ऐसा साधक) दिशाओं और विदिशाओं में चन्द्रमा को प्रगट कर देता है और रात्रि को दिन तथा दिन को रात्रि बनाने में समर्थवान् हो जाता है। (वह) योग में शिव क तुल्य हो जाता है और क्षणमात्र में तीनों लोकों को स्तंभित कर देता है ॥ २०॥

गायनविद्या में तुम्बुरु के तुल्य तथा दान देने में कर्ण के तुल्य होता है। हाथी, घोड़ा, रथ, पैदल तथा अस्त्र-शस्त्रों का वह स्वामी होता है और उसका जीवन सफल हो जाता है ।। २१ ॥

काकभुशुण्डी के तुल्य आयु में दीर्घजीवी होता है, उसके पास वृद्धावस्था नहीं आती है, वह हमेशा सोलह वर्ष का किशोर बना रहता है ।। २२॥

हे पार्वती! इस संसार में उसके लिये कुछ भी दुर्लभ (अप्राप्य) नहीं होता है । सभी पदार्थ उसके वशीभूत हो जाते हैं, इसमें संदेह की आवश्यकता नहीं । साधना करनेवाला भगवती को रजस्वला के रूप में जानकर उनका ध्यान करे, फिर महाविद्याराज्ञी का पूजन कर कालीसहस्रनाम का पाठ करे। दूसरे की स्त्री का स्पर्श करते हुए परमेश्वरी का पूजन करे और दूसरे की स्त्री का हाथ पकड़कर कालीसहस्रनाम स्तोत्र का पाठ करने से मनुष्य को समस्त सिद्धियाँ प्राप्त होती हैं । (ऐसे साधक का) मनोरथ पूर्ण हो जाता है, ऐश्वर्य में वह कुबेर से भी अधिक सम्पन्न हो जाता है। हे महेशानि! कुल एवं गोलक के वर्णाक्त को लेकर श्मशान में हवन करनेवाला पुरुष ब्रह्मा के लिखे को भी बदल सकता है ।। २३-२७॥

अत्यधिक मनोहर तरुणी (युवती), जो काम के गर्व से इठलाती हो और चंचल हो, उसे प्रयत्न करके बुलावें । फिर न्यासविधि से उसे स्नान करावें, उस (स्त्री को) फूलों का सेज पर बिठावें और स्वयं भूमि पर रहें। फिर देवी के चरणों से युक्त मूलमंत्र का स्मरण करें । हे शिवे, हे महेशानि! फिर संकल्प करके देवी का पूजन कर देवी के मूलमंत्र का जप करें। इसके पश्चात् कालीसहस्रनाम स्तोत्र का पाठ करें, फिर प्रणव का स्मरण करें ॥ २८-३०॥

(साधक) महाकाली के मूलमंत्र से एक सौ आठ बार योनि को अभिमंत्रित कर चुम्बन करे । फिर उस स्त्री के साथ मिलकर काली के मंत्र का जप करे । ऐसा करनेवाला पुरुष समस्त विद्याओं का स्वामी हो जाता है। खंडहर में, श्रृंगालियों के वन में, शिवमन्दिर में, निर्जन स्थान में, तालाब में, गंगा के मध्य में, चौराहे पर, श्मशान में, पर्वत पर, अकेले और शिवामुख में ऋतुमती स्त्री की योनि को मुण्डित कराकर अपने गृह में स्नान करने के पश्चात् या वेश्या के गृह में, कुटनी के गृह में, केले के मण्डप का निर्माण कर उसमें कालीसहस्रनाम स्तोत्र का पाठ करने से सम्पूर्ण मनोरथों की सिद्धि होती है। जंगल में, गुफा में, शत्रु के साथ युद्ध के लिये समरभूमि में, इस कालीसहस्रनाम स्तोत्र का पाठ करे ॥ ३१-३५॥

बालकों को प्रसन्न करने के पश्चात् कालिका स्तोत्र का पाठ एवं महाकाली का ध्यान करते हुए (इस) कालीसहस्रनाम स्तोत्र का पाठ करना चाहिए। जो (साधक) ऐसा करते हैं, उनको सम्पूर्ण सिद्धियाँ प्राप्त होती हैं और उनका अभीष्ट सदैव पूर्ण होता है। मुण्डित या अमुण्डित योनि में रतिक्रिया करता हुआ या कोमल चमड़े पर, कुशा निर्मित आसन पर, कफन पर, रजस्वलास्त्री के वस्त्र के आसन पर, बालों को खोल हुए निर्वस्त्र होकर मैथुन किये गये शयन पर, काली का (जो साधक) जप करता हुआ कालीसहस्रनाम का पाठ करता है, उसे खेचरी मुद्रा सिद्ध प्राप्त हो जाती है ॥ ३६-३९॥

चिकुर को पकड़कर दक्षिणाकाली का जप कर शुक्र को निकालनेवाला साधक शताधिक बलवानों का सामना करने में समर्थ हो जाता है। लता का स्पर्श कर जप करे या रमण कर महाकाली का पूजन करें। बिना वस्त्र के परशक्ति का ध्यान करें अपने हाथ से योनि को पकड़कर दक्षिणाकाली का स्मरण करें। इसके उपरान्त कालीसहस्रनाम स्तोत्र का पाठ करे, (ऐसे कृत्य) करनेवाला साधक शिव से भी अधिक शक्तिशाली होता है। लता के मध्य में काली का स्मरण कर सावधान होकर कालीसहस्रनाम का पाठ करना चाहिए। ४०-४२॥

इस प्रकार का साधक एक माह में दशावधान हो जाता है । कालरात्रि में, महारात्रि में,विररात्रि में, चतुर्दशी और अष्टमी तिथि को संक्रान्ति, अमावस्या, पूर्णमासी शुक्रयुक्त,भौमयुक्त अमावस्या में, सायंकाल मंगल दिनयुक्त नवमी तिथि में और कुलतिथि में कुरुक्षेत्र में प्रयत्नपूर्वक कालीसहस्रनाम का पाठ करना चाहिए। ऐसा साधक सभी अंगों से सुन्दर हो जाता है । किन्नरी सिद्धि उसे प्राप्त हो जाती है। जिस प्राचीन स्थान पर पश्चिमाभिमुख (शिव) लिंग हो, किन्तु नंदी न हो, ऐसे (प्राचीन) स्थान पर बैठकर समस्त कामना सिद्धि के लिए कालीसहस्रनाम का पाठ करना चाहिए । मंगलवार के दिन अर्घ रात्रि में और अमावस्या की अर्द्धरात्रि में काली को ।। ४३-४७॥

उर्द मिश्रित भात, बकरा, खिचड़ी, खीर, भुनी हुई मछली, खून, दूध, दही, गुड़मिश्रित आदि की बलि देकर एक हजार आठ बार कालीसहस्रनाम का पाठ करनेवाला साधक देव-गंधर्व और सिद्धों से सेवित महाकाली को प्राप्त कर लेता है। ४८-४९ ॥

इसमें संदेह नहीं है कि ऐसे पुरुष का आसन भूमि से तीन हाथ ऊपर गगन में स्थित होता है। बिना मन के भी जो मनुष्य महाकाली की स्तुति करता है, वह ब्रह्मादि देवों की गति को भी रोक सकता है और क्षणमात्र में देवी को मोहित कर लेता है । मात्र तीन प्रहर में ही वह दसों महाविद्याओं का आकर्षण कर सकता है, वह विष्णु का निर्माण कर सकता है और यमराज का भी वध कर सकता है। ५०-५२॥

(ऐसा साधक) ध्रुव का उच्चाटन कर सकता है और नवीन सृष्टि के निर्माण में समर्थ हो सकता है। साधक को मेष, महीष, मार्जार, गदहा, बकरा, मनुष्य, गैंडा, सूअर, कबूतर टिट्टिभ, खरगोश आदि के मांस और रक्त, अस्थि, बत्तख, दूध, खीर, पुष्परसस हुआ मद्य, सींधु मद्य, सुगन्धित आसव, योनि का धोया हुआ जल, सम्भोगकाल में योनि और लिंग से निकले हुए रज-वीर्य आदि से जप के अंत में महाकाली का तर्पण कर चाहिए, फिर अपनी सामर्थ्य के अनुसार सर्वसाम्राज्यदायक महाकाली स्तोत्र का पाठ करना चाहिए ॥ ५३-५६ ॥

जो साधक शक्ति का स्पर्श करता हुआ कालीसहस्रनाम का पाठ करता है, वह तीन दिन में ही काली के तुल्य हो जाता है। उसके गृह में हमेशा दक्षिणाकाली निवास करती है । वेश्या के गृह में जाकर (साधक) मुखचुम्बन करें। फिर उसकी योनि में मुख लगाकर उसका अवलेहन करते हुए एक हजार बार जप करे। तदुपरान्त भक्तियुक्त होकर कालीसहस्रनाम का पाठ करे । ऐसा करने से तीन प्रहर में ही काली का दर्शन प्राप्त हो जाता है। नाचनेवाली के गृह में जाकर उसको पुष्पशय्या पर पञ्चमकार से युक्त हो स्थापित करें, पुनः शक्तिन्यास करे। काली के उपभोग युक्त मद्य, मांस आदि युक्त पात्र स्थापित करके वेश्या को निर्वस्त्र करे । वहाँ पर चक्र को संभावित कर आवरण सहित जप करे ॥ ५७-६१ ॥

हे महेश्वरी! सौ बार मस्तक पर न्यास करे, सौ बार केश पर न्यास करे, सौ बार सिंदूर मण्डल के स्थान सीमन्त में न्यास करे। सौ बार दोनों स्तनों पर न्यास करे, सौ बार नाभि पर न्यास करे, हाथ के न्यासों से सौ बार मंत्र का जप करे। फिर योनि पर हाथ रखकर सौ बार तथा सम्भोग काल में तीन सौ बार जप करे। इसके उपरान्त ही

स्तोत्र का पाठ करना चाहिए। इस प्रकार का साधक एक मास में शतावधान हो जाता है,मातंगिनी या कापालिनी को स्थापित कर ॥ ६२-६४ ॥

दूसरे की स्त्री का आलिंगन करके जप करे और दूसरे की स्त्री का चुम्बन करके पाठ करे। दूसरे की स्त्री का पूजन करें और दूसरे की स्त्री का संमर्दन करे। दूसरे की स्त्री की योनि में लिंग डालें इस प्रकार का साधक शतावधानों में और शक्तिमानों में सबसे बड़ा राजा होता है। गायन विद्या में दक्ष किसी स्त्री को बुलाकर कुलाचार परम्परा के अनुकूल उसकी योनि के विकसित करें। तदुपरान्त उसमें जीभ डालकर सहस्रनाम का पाठ करें। (मृतक) मनुष्य की खोपड़ी पर दीप की माला स्थापित करके (साधक को) जप करना चाहिए। ऐसा करने से साधक महाकवि होता है, इसमें संदेह नहीं है॥६५-७१॥

साधक कामातुर हो शक्ति को बुलाकर योनि पर मूलचक्र लिखकर फिर मन्त्र लिखे। इस प्रकार का साधक मंत्रयुक्त उस योनि का अवलेहन करता हुआ समस्त शास्त्रों के अर्थों का जानकार हो जाता है। (वह) अश्रुत और बिना पठन किये गये वेदादि को भी पढ़ाने में दक्ष होता है। न्यास, पाठ और ध्यान के बिना भी वह चारों वेदों (ऋग्वेद, यजुर्वेद, अथर्ववेद, सामवेद) का ज्ञाता होता है और तीन वर्ष तक नियमित पाठ करने से त्रिकालज्ञ हो जाता है । ७२-७४॥

चारो प्रकार का पाण्डित्य कालीसहस्रनाम का पाठ करनेवाले साधक को प्राप्त हो जाता है। पूर्णतः निर्जन स्थान में ही महाकाली को बलि प्रदत्त करनी चाहिए। काली का ध्यान, मंत्र का जप, नीलसाधन, सहस्रनाम का पाठ, कालीनाम का जप करने से साधक को सर्वत्र अभ्युदय की प्राप्ति होती है। प्रेतसिद्धि, महाकाली पूजा, महाकाली की बलि, सिंदूर का तिलक, सदैव वेश्याओं से वार्ता, रात्रि के समय वेश्या के घर में रहना और रात्रि में पर्यटन करना, शक्तिपूजा, यौनदृष्टि, हाथ में खड़ग, बिना वस्त्र के बिखरे हुए बाल, वीरवेष, कुलमूर्ति को धारण करने वाला मनुष्य ही महाकाली का भक्त होता है। यदि वह ऐसा नहीं है तो दु:ख को प्राप्त करता है। दुग्धपान करनेवाला, योनि का लेह करनेवाला, ज्ञानी आसव से देखता हुआ मनुष्य वेश्यालता का आश्रय लेने से क्षणभर में कल्पलता के तुल्य हो जाता है और वेश्याचक्र के समायोग से कालीचक्र के सदृश हो जाता है। (साधना करनेवाला) साधक वेश्या के शरीर के समायोग से स्वयं काली देह के तुल्य हो जाता है । काली ऐसा भी कहती हैं कि मैं अपनी साधना करनेवाले साधक को वेश्या के बीच में कब देखूঁगी? यही कारण है कि वेश्या उत्तम (श्रेष्ठ) है, वेश्या कन्या, पीठजाति भेद कुलचक्र से ॥ ७५-८३ ॥

जो (साधक इस) कालीसहस्रनाम का पाठ करता है, वह काली दर्शन के फल को (अवश्य) प्राप्त करता है । वेश्याकुल में पैदा हुई कुमारी का भी पूजन करें। कुमारी को वस्त्र और होमादि द्वारा संतुष्ट (प्रसन्न) कर प्रयत्नपूर्वक कालीसहस्रनाम स्तोत्र का पाठ करना चाहिए । (ऐसा करने से) पुरुष तीनों लोकों में विजयी होता है और दिन में चन्द्रमा को भी (आकाश में) प्रगट कर देता है। कुमारी को प्रदत्त किया गया दान अनन्त फल देनेवाला होता है। कुमारी-पूजन का फल अनन्त है, जिसे कहने में मैं सक्षम नहीं हूँ । चंचलतावश (मैंने) जो कुछ कहा हो, उसे क्षमा करें । मैं हाथ जोड़ता हूँ, मात्र एक बाला की पूजा करने से महाकाली अपने आप पूजित हो जाती हैं ।। ८४-८८॥

यह सम्पूर्ण संसार ही कुमारी और शक्तिमय है। इसलिए कुमारी के शरीर में शक्ति का आवाहन कर न्यासादि द्वारा शक्ति को स्थापित करना चाहिए । कुमारी को महाकाली के बायें भाग में स्थापित कर कालीसहस्रनाम का पाठ करें। (ऐसा करने से) मनुष्य सर्वसिद्धीश्वर हो जाता है। इसमें विचार करने की आवश्यकता नहीं है । श्मशान में बिना भय के निवास करें, बालों को बिखेर कर बिना वस्त्र पहने एक हजार धतूरे का पुष्प ले आवें । तत्पश्चात् धतूरे का पुष्प लें (उसमें) वीर्य मिलाकर (काली के प्रत्येक मन्त्र से) क्रमानुसार एक-एक पुष्प का एक हजार बार हवन करें। फिर पूजा कर भगवती का ध्यान करें। ऐसा करनेवाला मनुष्य राजा होता है । ८९-९२ ॥

सम्मार्जनीय में नख, केश और अपना वीर्य रखकर बालों को बिखेरकर और बिना वस्त्र पहने मूलमन्त्र द्वारा श्मशान में, मंगलवार के दिन मध्य रात्रि में हवन करके कालीसहस्रनाम का पाठ करनेवाला साधक राजा को भी (अपनी ओर) आकृष्ट कर लेता है। रजस्वला स्त्री से संभोग कर फिर केशयुक्त आसन पर बैठकर मूलमंत्र का जप करें। फिर मध्यरात्रि में यत्नपूर्वक अपना वीर्य निकालकर (जलती हुई) चिता की अग्नि में हवन करके काली का पूजन करने के उपरान्त कालीसहस्रनाम का पाठ करें।९३-९६ ॥

इस प्रकार का साधक राजा को भी (अपनी ओर) आकृष्ट कर लेता है। इसमें (लेशमात्र) संदेह नहीं है। केले के वन में एक लाख जप करनेवाला साधक मधुमती देवी से स्वयं काम के सदृश पूजित होता है। तदुपरान्त ‘श्रीमधुमति स्थावरजंगमान् आकर्षय ठं ठं स्वाहा’ यह उच्चारण करें। ऐसा करने से साधक के हाथ में त्रैलोक्याकर्षिणी विद्या सिद्ध हो जाती है ॥ ९७-९९॥

यह मधुमती विद्या नदी, नगर, रत्न, सुवर्ण, स्त्री, पर्वत, वृक्ष, सागर और सुमेरु का भी सरलता से (अपनी ओर) आकृष्ट कर लेती है ॥ १०० ॥

दूर की वस्तु, अलभ्य वस्तु, भूमि के नीचे की वस्तु और स्वर्ग का वृत्तान्त, विद्वानों का रहस्य और राजाओं के रहस्य को भी यथार्थ रूप द्वारा शीघ्रता से प्रकट कर देती है। दूसरे वर्ष पाठ करने से साधना करनेवाले को पद्मावती विद्या सिद्ध हो जाती है॥१०१-१०२॥

पद्मावती विद्या का यह मंत्र है-‘ॐ ह्रीं पद्मावति त्रैलोक्यवार्ता कथय कथय स्वाहा ।” ब्रह्मा, विष्णु आदि देवताओं का वृत्तान्त और तीनों लोकों का वृत्तान्त यह पद्मावती विद्या (स्वयं) बता देती है। पद्मावती विद्या का जप करनेवाला साधक तीनों कालों की ज्ञानी और कवि हो जाता है । हे देवि! तीन वर्षों तक (निरन्तर) कालीसहस्रनाम का पाठ करने से साधक भोगवती कला को प्राप्त कर लेता है। इस कला को प्राप्त करनेवाला मानव का दर्शन करने से ही महाकाल के द्वारा डंसा हुआ मनुष्य और चिता के बीच रखा हुआ पुरुष भी जीवित हो जाता है। इसके साथ ही साथ वह दीर्घजीवी होता है। मृतसञ्जीवनी का यह मंत्र है-”मृतसञ्जीवनी मृतमुत्थापय उत्थापय स्वाहा ।” चार वर्षों तक (निरन्तर) कालीसहस्रनाम का पाठ करनेवाले पुरुष को स्वप्नसिद्ध हो जाता है।। १०३-१०७॥

स्वप्नसिद्ध का मन्त्र यह है-‘ॐ ह्रीं स्वप्नवाराहि कलिस्वप्ने कथय अमुकस्य अमुकं देहि क्रीं स्वाहा” ॥१०८॥

चार वर्ष पर्यन्त पाठ करनेवाले मनुष्य के स्वप्न में यह स्वप्नसिद्धा देवी स्थित रहती है । चार वर्षों तक (काली) सहस्रनाम का पाठ करनेवाला (मनुष्य) चारों वेदों का पंडित जाता है । (ऐसे साधक) के हाथ के जल का संयोग होने से मूढ व्यक्ति भी काव्य करनेवाला हो जाता है। उसकी वाणी का श्रवण कर शिला की मूर्ति भी काव्यभाषा बोलने लगती है। माथे पर हाथ रखकर “वाणी वद” ऐसा उच्चारण करनेवाला साधक जो कहता है,वैसा ही होता है। इस (सम्पूर्ण) ब्रह्माण्ड में और इस संसार में जितनी भी सिद्धियाँ हैं, वे समस्त कालीसहस्रनाम का पाठ करनेवाले साधक को हस्तामलकवत् दिखाई पड़ती है। इतना ही नहीं जितनी भी सिद्धियाँ हैं, वे सभी साधक के स्मरण करते ही उसके समक्ष स्वयं उपस्थित हो जाती है। फिर जप करने की बात की क्या है? विदेश में रहनेवाले उसके सेवक के तुल्य हो जाते हैं और अमावस्या को चन्द्र का दर्शन और चन्द्रग्रहण भी उसे दिखाई पड़ सकता है। काली के भक्त को अष्टमी तिथि को पूर्ण चन्द्रमा और आठों दिशाओं में आठ चन्द्रमा तथा आठ सूर्य भी दिख सकते हैं। अणिमादि सिद्धि, आकाश में किसी बाधा के बिना जाना, सम्पूर्ण चराचर संसार में अव्याहत उसकी गति होती है। । पादुका, खड़ग, वैताल, यक्षिणी, गुह्यकादि ॥१०९-११६॥

तिलक, गुप्तवस्तुओं का प्रत्यक्ष होना, चराचर जगत् का समाचार, मृतसञ्जीवनी सिद्धि, गुटिका, रसायन, उड्डीन सिद्धि, षष्टि सिद्धि, ईशित्व सिद्धि आदि सम्पूर्ण चमत्कारिक गुण उसके वशीभूत हो जाते हैं। इसमें संदेह मत करो, हे पार्वति!॥ ११७-११८॥

ध्वज, दुन्दुभि, वस्त्र, चঁदवा, बिछौना, गृह, भीत, लकड़ी के फलक पर देवी के मंत्रों का लेखन और पूजन (साधक को) करना चाहिए । दशाङ्ग में वर्णित की गई विधि के अनुसार चक्र को बीच में स्थापित करें, फिर उसके चारों ओर अपना नाम लिखें। इस प्रकार के यंत्र को धारण करने से मनुष्य तीनों लोकों में विजयी होता है। इस यंत्र को धारण करनेवाला मनुष्य अकेले ही समर में सैकड़ों, हजारों (योद्धाओं)को हराकर कुशलता से अपने गृह में लौट आता है। वह अकेला ही लोगों को सैंकड़ों अथवा हजारों रूप में दिखाई पड़ता है। यत्नपूर्वक कलश स्थापित कर फिर कालीसहस्रनाम का पाठ करना चाहिए। समस्त विपत्तियों के निवारण के लिए कालीसहस्रनाम का पाठ करते हुए प्रत्येक नाम से जल का छींटा देना चाहिए। यह कालीसहस्रनाम भूत,प्रेत,ग्रह,राक्षस और ब्रह्म राक्षस को भी दूर भगानेवाला है। इसमें संदेह नहीं है कि यह वेताल,भैरव,स्कन्द और विनायकादिकों का भी क्षणभर में विनाश कर देता है।॥ ११९-१२४॥

ग्रहों की बाधा से ग्रसित मनुष्य के शरीर पर कालीसहस्रनाम से भस्म को अभिमंत्रित करके उस भस्म का लेप कर देना चाहिए । मात्र भस्म के प्रक्षेप से सभी (अनिष्टकारी) ग्रह पलायित हो जाते हैं। हे महेश्वरि! कालीसहस्रनाम से अभिमंत्रित मक्खन को (यदि) बन्ध्या स्त्री को खिला दिया जाय, तो वह भी पुत्र उत्पन्न करती है। इसमें संदेह की कोई बात नहीं है। हे शिवे! इस काली के महामंत्र को गले में, बायें हाथ में या योनि में धारण करने से स्त्री बहुत से पुत्रों वाली एवं सौभाग्यशालिनी होती है। समस्त प्रकार सिद्धयों के लिए मनुष्य महाकाली मंत्र को अपने दायें अंग में धारण करें। (ऐसा करने से) वह बलवान्, कीर्तिमान, धन्य और धार्मिक तथा (सभी कार्यों में) सफल होता है॥ १२५–१२८॥

“ॐ क्रीं क्रीं दक्षिणकालिके क्रीं स्वाहा” इस मंत्र का दस हजार जप और कालीसहस्रनाम का दस हजार बार पाठ करनेवाला साधक कामिनियों को अपनी ओर आकृष्ट कर लेता है। (इसके साथ ही साथ) वह आकाश, जल, और पृथ्वी पर निवास करनेवाले समस्त जन्तुओं को आकृष्ट करता है। वशीकरण की इच्छा रखनेवाला साधक ॐ हूं हूं ह्रीं ह्रीं दक्षिणकालिके क्रीं स्वाहा” इस मंत्र का दस हजार बार जप करे॥१२९-१३१॥

(ऐसा करने से) वह उर्वशी को भी अपने वशीभूत कर लेता है, इसमें संदेह नहीं है। “क्रीं च दक्षिणकालिके स्वाहा” इस मंत्र से संपुट लगाकर कालीसहस्रनाम का पाठ करनेवाला साधक तीनों लोकों को भी मारने में समर्थवान् हो जाता है। इस महाविद्या की दीक्षा शुभ दिन में सदाचारयुक्त एवं अच्छे भक्त को ही प्रदत्त करनी चाहिए॥१३२-१३३ ॥

सुविनीत, सुशान्त, जितेन्द्रिय, गुणवान्, भक्त, ज्येष्ठपुत्र, गुरु की भक्ति करनेवाले, वैष्णव, मन, कर्म और वाणी से विशुद्ध, महाकाली को बलि प्रदत्त करनेवाले, वेश्या की पूजन करनेवाले, कुमारी का पूजन करनेवाले, दुर्गा और रुद्र (शिव) के भक्त, महाकाल का जप करनेवाले, अद्वैत सिद्धान्त के अनुयायी, महाकाली के भक्त को भी इस कालीसहस्रनाम को, जिसे स्वयं महाकाली ने प्रकाशित किया है, प्रदत्त करना चाहिए। हे पार्वति! जो गुरु और देवता के मंत्रों में भेद न मानता हो, वह शिव है, वह गणेश है। जो मन्त्र को सिद्ध करता है, वह साक्षात् शिव है । इसमें (लेशमात्र) संदेह नहीं है। वही शाक्त वैष्णव है, वही सौर है, वही पूर्णरूप से दीक्षित है। कालीसहस्रनाम का उपदेश अयोग्य(व्यक्ति) को नहीं देना चाहिए। ऐसा करने से सिद्धि नहीं होती है॥१३४-१३९॥

वेश्या स्त्री की निन्दा करनेवाले और मदिरा-मांसादि की निन्दा करनेवाले को कभी भी कालीसहस्रनाम स्तोत्र का उपदेश प्रदत्त नहीं करना चाहिए। सुरामुखी महाकाली का स्मरण कर मानव सुरा का आचरण करनेवाला हो जाता है। कवच का मन्त्र यह है – आसां वाग्देवता घोरे परघोरे हूं घोररूपे महाघोरे भीममुखी भीषण्या हेतुर्वामयुगे शिवे क्लीं क्लीं हूं हूं।’ इस मंत्र के स्मरण करने मात्र से ही दुष्टों का संहार करनेवाली (भगवती काली) देवी अवतरित हो जाती हैं ॥ १४०-१४५॥

खल को, पराधीन रहनेवाले को, दूसरे की निन्दा करनेवाले को, खल को, दूसरे से विवाह करनेवाले को, काली में आस्था न रखनेवाले को, परदारसेवी को, दुष्ट को यह स्तोत्र प्रदत्त नहीं करना चाहिए। यदि ऐसा किया जाय तो (उसे) कालीहत्या का पाप लगता है। हमेशा काली में ध्यानमग्न रहनेवाले, काली में भक्ति रखनेवाले कालीभक्त ही धन्य हैं। ‘इस कलिकाल में मात्र महाकाली ही श्रेष्ठ है, एवं वर प्रदत्त करनेवाली है। कालीसहस्रनाम के प्रत्येक नाम से बिल्वपत्र और कनैल का पुष्प (काली को) समर्पित कर पूजन करनेवाले साधक को काली वर प्रदत्त करती है ॥ १४६-१४८॥

इस काली सहस्रनाम के प्रत्येक नाम (मंत्र) से महाकाली को कमल पुष्प समर्पित करनेवाले और प्रत्येक नाम से महाकाली के श्रीचक्र का पूजन करनेवाले साधक को भी महाकाली वर प्रदत्त करती हैं। सावधान होकर मंत्र का पाठ करनेवाला साधक कलश के जल से महाकाली के प्रत्येक नाम से यदि जल का छींटा दें, तो उसकी समस्त विपात्तयाঁ दूर हो जाती हैं। दमनक के एक हजार पत्ते से काली के हजार नाम द्वारा पूजन करने से (साधक) काली से वर प्राप्त करता है। काली का भक्त महाचक्र लिखकर (यदि) अपने शरीर में धारण करे या किसी (पत्र) पर लिखकर उसे खाये तो महाकाली उसे वर देनेवाली हो जाती है ॥ १४९-१५२ ॥

इस प्रकार की साधना करनेवाला साधक दिव्य शरीर को धारण कर काली के शरीर में स्थिर हो जाता है। महाकाली की भर्त्सना करनेवाले दुष्टों को देखकर भैरव और योगिनियाँ (उनके) रक्तपान करने की इच्छा से नाचने लगती हैं और उनके मांस, अस्थि और उनके चमड़े को भी खा जाती हैं, इसमें संदेह नहीं है । अतः महाकाली की कभी भी मन, वचन तथा कर्म से निन्दा नहीं करनी चाहिए। जो निन्दा करते हैं उनका विनाश निश्चित है। क्रमानुसार दीक्षा लेनेवाले को ही सिद्धि प्राप्त होती है, अन्य को नहीं। जो क्रम से दीक्षा नहीं लेते, उनका मन सिद्ध नहीं होता है। वह अल्पायु हो जाते हैं अर्थात् कम आयु में मर जाते हैं ॥१५३-१५६॥

क्रमानुसार दीक्षा न लेनेवाले पुरुष की धर्मपत्नी, पुत्र और राज्य का विनाश हो जाता है। परन्तु क्रमानुसार दीक्षा लेनेवाला साधक पुत्र, स्त्री और राज्य को भी प्राप्त कर लेता है। जो कालीसहस्रनाम का प्रतिदिन एक बार पाठ करता है, उसके समस्त पाप नष्ट हो जाते है। दो बार प्रतिदिन पाठ करनेवाले की सम्पूर्ण इच्छाएं पूर्ण होती हैं । प्रतिदिन तीन बार पाठ करनेवाला साधक बृहस्पति (देवता) के तुल्य विदग्ध होता है। नित्य (चार बार) पाठ करनेवाला (साधक) चारों वर्णों का स्वामी हो जाता है॥१५७-१५९॥

पाँच बार नित्य पाठ करनेवाला साधक पञ्चज्ञानेन्द्रियों के काम रूप, रस, गन्ध, स्पर्श और शब्दरूपी पाँचों कामनाओं को प्राप्त करता है । (नित्य) छ: बार पाठ करनेवाला साधक ज्ञान-वैराग्यादि छहों ऐश्वर्यों को प्राप्त कर लेता है। नित्य सात बार पाठ करनेवाला सातों कामनाओं से चिन्तित वस्तु को प्राप्त करता है। नित्य आठ बार पाठ करनेवाला साधक आठों दिशाओं का स्वामी हो जाता है। हे देवि! जो (साधक प्रतिदिन) नौ बार पाठ करता है, वह गोरखनाथ आदि नौ नाथों के तुल्य हो जाता है। जो (साधक) प्रतिदिन दस बार पाठ करता है, वह आकाश में दसों दिशाओं में चलनेवाला हो जाता है। जो (साधक प्रतिदिन) बीस बार पाठ करता है, उसे सम्पूर्ण ऐश्वर्य प्राप्त हो जाते हैं। जो (साधक प्रतिदिन) पच्चीस बार पाठ करते हैं, उनकी समस्त चिन्ताएँ नष्ट हो जाती हैं ॥ १६०-१६३)

जो (साधक प्रतिदिन) पचास बार पाठ करते हैं, वह पञ्चभूत के ईश्वर हो जाते हैं । जो (साधक प्रतिदिन) सौ बार पाठ करते हैं, वह शतानन के सदृश बुद्धिमान् होते हैं। जो (साधक प्रतिदिन) एक सौ पाँच बार पाठ करते हैं, वह राजराजेश्वर हो जाते हैं। जो (साधक प्रतिदिन) एक हजार बार पाठ करते हैं, (ऐसे साधक का) लक्ष्मी स्वयं वरण कर लेती है। तीन हजार बार पाठ करने से (साधक) त्रिनयन के तुल्य हो जाता है। पाँच हजार बार पाठ करने से (साधक) कामकोटि को भी मोहित कर लेता है॥१६४-१६६॥

दस हजार बार पाठ करने से (साधक) दशमुखेश्वर हो जाता है। चौबीस हजार पाठ करने से (साधक को) चौबीस सिद्धियाँ प्राप्त हो जाती हैं । एक लाख बार पाठ करन से (साधक) लक्ष्मीपति के सदृश हो जाता है। तीन लाख बार पाठ करनेवाला शिव को भी जीत लेता है। पाँच लाख बार पाठ करनेवाले (साधक) को पाँच कलाओं की प्राप्ति होती है। दस लाख बार पाठ करने से दस महाविद्याओं की प्राप्ति हो जाती है। पच्चीस लाख बार पाठ करने से (साधक) दस विद्याओं का स्वामी हो जाता है। पचास लाख बार पाठ करनेवाले (साधक) को महाकाल की समता प्राप्त हो जाती है॥१६७-१७०॥

जो साधक अर्थात् पुरुष एक करोड़ बार पाठ करता है, वह महाकाली को (प्रत्यक्षरूप से) अपनी आँखों के द्वारा देखता है । स्वयं काली उसे वरदान देने की मुद्रा में महाकाल के साथ उसके समक्ष प्रगट होती है। ऐसा पुरुष श्रीविद्या, कालिका, तारा आदि तीनों शक्तियों पर विजय प्राप्त करता है और इन्हें वह अपनी देह में प्रत्यक्षरूप से देखता है। (ऐसा) वह पुरुष ब्रह्मा के लिखे हुए लेख को भी मिटा सकता है और वह किसी देवता का किंकर नहीं रहता है । वह स्वयं राजा के पद को प्राप्त करता है, इसमें संदेह नहीं है ॥ १७१-१७३॥

महादेव जी पार्वती से बोले-हे देवि! त्रिशक्ति की उपासना में क्रमपूर्वक दीक्षा आवश्यक है, जो क्रमानुसार दीक्षा प्राप्त करते हैं, वह बिना किसी संदेह के राजा हो जाते हैं। जो क्रमानुसार दीक्षा नहीं लेते हैं, उसका फल हम पूर्व में ही कह आए हैं। परन्तु क्रमानुसार दीक्षा लेनेवाला पुरुष शिव के तुल्य ही है। इसमें संदेह नहीं करना चाहिए । क्रमानुसार दीक्षा लेनेवाला साधक ही काली को सिद्ध करने में समर्थ होता है। यह वचन (भगवती) काली का है, किन्तु जो क्रमानुसार दीक्षा नहीं लेते हैं, उन्हें पगपग पर सिद्धि की हानि प्राप्त होती है। क्रमानुसार दीक्षा लेनेवाला पुरुष ही इस कलिकाल के मानवों में सर्वश्रेष्ठ है। उसमें कालीसहस्रनाम का पाठ करनेवाला तो धन्य (पूज्य) है॥१७४-१७७॥

हे पार्वति! काली के सन्निधान में दस बार (कालीसहस्रनाम) का पाठ करनेवाला साधक सिद्धि को प्राप्त कर लेता है, इसमें संदेह मत करो । काली, कालीमहाविद्या कलियुग में सिद्धि प्रदत्त करनेवाली है। (इस) कलिकाल में काली ही सिद्ध है और वर प्रदत्त करनेवाली है। कलियुग में एक (मात्र) काली ही अपने साधक को दर्शन देने के लिए तत्पर रहती है। कलियुग में मात्र काली ही विद्यामान हैं, इसमें संदेह नहीं है। इस कलियुग में और महाविद्यायें सिद्धि प्रदान नहीं करती हैं, यह मैं तीन बार शक्ति का उच्चारण करके कह रहा हूँ। कलियुग में काली का परित्याग करके जो सिद्धि चाहता है, मानो वह शक्ति के बिना ही रति, सम्भोग का सुख चाह रहा है। इस कलियुग में काली का परित्याग कर जो सिद्धि चाहता है, वह नीलमणि का परित्याग करके व्यर्थ ही भ्रमवश इधर-उधर दौड़ रहा है। जो काली को छोड़कर मुक्ति प्राप्त करना चाहता है, ऐसा साधक गुरुध्यान का परित्याग करके सिद्धि चाहता है। कलियुग में काली का परित्याग कर जो राज्य चाहता है, वह भोजन का परित्याग कर भिक्षावृत्ति ही करना चाहता है । इस कलियुग में वही धन्य है, वही ज्ञानी है, वही देवपूजित है ॥ १७८-१८५ ॥

वही दीक्षित होते हुए सुखी है, वही साधु है, वही सत्यवादी एवं वही जितेन्द्रिय है, वही वेद को बोलनेवाला एवं स्वाध्यायी है, इसमें विशेष विचार की आवश्यकता नहीं है। जो साधक शिवरूप गरु का ध्यान और शिवरूप गुरु का स्मरण करते हुए महाकाली का आराधना करता है, वही सदाशिव है, इसमें संदेह नहीं है। अपने में ही काली को मानकर जगदम्बा की पूजा करनी चाहिए। ऐसा साधक तीनों लोक में विजयी होता है, इसम भी संदेह नहीं है । प्रयत्नपूर्वक इस ‘कालीसहस्रनाम’ को गोपनीय रखना चाहिए। (क्योंकि) यह सभी रहस्यों का रहस्य है और सम्पूर्ण रहस्यों का अतिक्रमण करने वाला है। कालीसहस्रनाम के अर्ध श्लोक या अर्ध पाठ या चरण के अर्ध का अर्ध और उसका भी अर्ध एवं उसके भी अर्ध का जो पाठ करता है, उसका दिन सफल होता है । हे देवि! सद्यः फलप्राप्ति के लिए इस सहस्रनाम पुस्तक की पूजा करनी अत्यावश्यक है। जहाँ इसकी पूजा होती है, वहाँ महामारी का भय नहीं होता है, न अग्नि का, न वायु का भय रहता है। वहाँ भूतादि का भय नहीं रहता तथा सभी जगह सुख का वातावरण रहता है। कुमकुमादि राग, अलक्तकादि श्रृंगार दूर्वा, हरिद्रा और अगुरु से (इस कालीसहस्रनाम) पुस्तक की पूजा करनी चाहिए ॥ १९२ ॥

समस्त कामनाओं की सिद्धि के लिए भोजपत्र पर (इस कालीसहस्रनाम) की पुस्तक का लेखन करना चाहिए । हे पार्वति! इस प्रकार मैंने वर्ण के रूप में स्थित (रहनेवाली) भगवती काली के सम्पूर्ण सहस्र नामों को मैंने तुमसे कहा, जो कोई भक्ति-भाव से इस (काली सहस्रनाम) का पाठ करेगा, वह सर्वसिद्धीश्वर हो जायेगा। उनको उत्तम से उत्तम अनेकानेक प्रकार के सुखों की प्राप्ति होगी। सभी विद्याओं में वे पारंगत होंगे, वे पुत्रपौत्रादि और समृद्धि से युक्त होकर सम्पूर्ण प्रकार की सिद्धि प्राप्त करेंगे । (हे पार्वति.) यह सब मैंने तुमसे संक्षिप्त रूप से कहा है, अब और क्या श्रवण करना चाहती हो? ॥१९३-१९५॥

इति श्रीककरादिकालीसहस्रनामस्तोत्रम् ककारादिकालीसहस्रनामावलिः समाप्तम् ॥

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply