देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में एक शादी में वर-वधू को आशीर्वाद देने पहुंचे। दरअसल, इस शादी में दूल्हा बने डॉक्टर बृजेंद्र को गोद लेकर उनकी शिक्षा-दीक्षा की जिम्मेदारी राजनाथ सिंह ने तब उठाई थी जब वे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे। बृजेंद्र पढ़-लिखकर डॉक्टर बने, इस बात पर रक्षा मंत्री ने भी खुशी जाहिर की। दूल्हा डॉक्टर बृजेंद्र ने भी रक्षा मंत्री के शादी समारोह में आने पर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि यकीन नहीं हो रहा है कि वो आए हैं।

बृजेंद्र आजमगढ़ के मूल निवासी हैं। अनुसूचित जाति के बृजेंद्र की मां सुशीला देवी पति के देहांत के बाद आजमगढ़ के खिलवा से मायके गाजीपुर के सैदपुर में आकर रहने लगी थी। उनके तीन बेटों में सबसे बड़े बृजेंद्र पढ़ने में काफी होनहार थे। 2002 में उन्होंने कक्षा आठ में टॉप किया तो तत्कालीन मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह ने उनके बारे में पता किया। जब उनकी आर्थिक स्थिति के बारे में राजनाथ सिंह ने जाना तो उन्होंने बृजेंद्र को आगे पढ़ाई में मदद करने का बीड़ा उठाया और उसे गोद लिया। पत्रकारों से बात करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि गरीब बच्चों को पढ़ा-लिखाकर सफल इंसान बनाने से बहुत आनंद मिलता है। कहा कि जो भी सक्षम हैं उनको ऐसी जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

डॉक्टर बृजेंद्र की जब शादी होने लगी तब रक्षा मंत्री के गाजीपुर आने का कार्यक्रम तय हुआ। दुल्हन प्रीतिका के पिता प्रेमचंद पश्चिम बंगाल स्थित राइफल फैक्ट्री में काम करते हैं जो रक्षा मंत्रालय के अधीन है। उन्होंने इस शादी के बारे में बताया कि डॉक्टर बृजेंद्र और रक्षा मंत्री के बीच रिश्ते के बारे में उनके परिवार को कुछ पता नहीं था। दुल्हन प्रीतिका अंग्रेजी में एमए हैं और उन्होंने बीएड किया है। डॉक्टर बृजेंद्र से उनकी शादी जून में तय हुई थी और छह नवंबर को दोनों की सगाई हुई थी।

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply