बढ चलो जवान तुम बढ चलो जवान।

सिंह से दहाडते
शत्रु को पछाडते
प्राणों पर खेलते
गोलों को झेलते
जननी जन्मभूमि की
लुट न सके आन बढ़ चलो जवान।

शूर हो सपूत हो
राणा के पूत हो
मौके पर जूझते
वैसे शांतिदूत हो
छाती फौलाद की
वज्र भरे प्राण -बढ़ चलो जवान।

वीर हो सुधीर हो
अर्जुन के तीर हो
तुम कभी शंकर हो कभी महावीर हो
आन बान शान से
करो शीश दान -बढ़ चलो जवान

आज वीर वंश है
जागा स्वदेश है
जय हमारे साथ है
और तिलक भाल है
करना संकल्प है
मिट न सके मान -बढ़ चलो जवान।

baḍha calo javāna tuma baḍha calo javāna|

siṁha se dahāḍate
śatru ko pachāḍate
prāṇoṁ para khelate
goloṁ ko jhelate
jananī janmabhūmi kī
luṭa na sake āna baṛha calo javāna |

śūra ho sapūta ho
rāṇā ke pūta ho
mauke para jūjhate
vaise śāṁtidūta ho
chātī phaulāda kī
vajra bhare prāṇa -baṛha calo javāna |

vīra ho sudhīra ho
arjuna ke tīra ho
tuma kabhī śaṁkara ho kabhī mahāvīra ho
āna bāna śāna se
karo śīśa dāna -baṛha calo javāna

āja vīra vaṁśa hai
jāgā svadeśa hai
jaya hamāre sāatha hai
aura tilaka bhāla hai
karanā saṁkalpa hai
miṭa na sake māna -baṛha calo javāna |

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply