bharat ka bhugol tadpta | भारत का भूगोल तड़पता | गण गीत | RSS Geet

भारत का भूगोल तड़पता , तड़प रहा इतिहास है
तिनका-तिनका तड़प रहा है , तड़प रही हर सांस है |
सिसक रही है सरहद सारी , मां के छाले कहते हैं
ढूंढ रहा हूं किन गलियों में , अर्जुन के सूत रहते हैं
गली-गली और चौराहों पर , फिर आवाज़ लगाता हूं |

मन का गायक रोता है पर , मजबूरी में गाता हूं
जब तक मेरी खोई धरती , वापस नहीं दिलाओगे
सच कहता हूं तब तक मुझसे , गीत नहीं सुन पाओगे |
भारत का भूगोल तड़पता , तड़प रहा इतिहास है
तिनका तिनका तड़प रहा है , तड़प रही हर सांस है।

मां का आंचल तार-तार है , और मनाए हम जलसे
रक्त पान के बदले चुप – चुप , पीते हैं मधु के कलसे
नस – नस ऐंठ रही जननी की , हम उलझे है पायल में ,
घायल मां को भुला दिए हैं , मेहंदी , महवर, काजल में |

जब तक मेरी खोई धरती , वापस नहीं दिलाओगे
सच कहता हूं तब तक मुझसे , गीत नहीं सुन पाओगे |
भारत का भूगोल तड़पता , तड़प रहा इतिहास है
तिनका तिनका तड़प रहा है , तड़प रही हर सांस है।

आज नई पीढ़ी की ज्वाला , बुझी-बुझी क्यों लगती है
चबा जाए जो सूर्य पिंड को , कहां गई वह शक्ति है |
मुट्ठी भर बारूद उड़ाकर , जिसने आंगन जला दिया
कैसे तुमने उस दुश्मन को , इतनी जल्दी भुला दिया |

जब तक मेरा खोया आंगन , वापस नहीं दिलाओगे
सच कहता हूं तब तक मुझसे , गीत नहीं सुन पाओगे |
भारत का भूगोल तड़पता , तड़प रहा इतिहास है
तिनका तिनका तड़प रहा है , तड़प रही हर सांस है। तड़प रही हर सांस है…..

Leave a Reply