एक संस्कृति एक धर्म है एक हमारा नारा।
एक भारती की संतति हम भारत एक हमारा॥

दैनिक शाखा संस्कारों से
सीखें नित्य नियम अनुशासन।
मातृ भूमि प्रति अक्षय निष्ठा
करें समर्पित तन मन धन।
भरत भूमि का कण कण तृण तृण है प्राणों से प्यारा॥१॥

रूढ़ि कुरीति और वैषमता
ऊँच-नीच का भाव मिटाकर
संगठना की शंख ध्वनि हो
बान्धु बन्धु का भाव जगाकर।
नव जागृति का सूर्य उगा दें है संकल्प हमारा॥२॥

जाति पन्थ का भेद तोडकर।
प्रान्त मोह का भूत भगाये
भाषाओं का अहं मिटाकर।
खोई एकात्मता मिलायें
हिन्दु हिन्दु सब एक रहें मिल है कर्तव्य हमारा॥३॥

अपने शील तेज पौरुष से।
करें संगठित हिन्दू सारे
धरती से लेकर अम्बर तक।
गुँज उठे जय भारत प्यारा।
प्रतिपल चिन्तन ध्येय -देव का जीवन कार्य हमारा॥४॥

eka saṁskṛti eka dharma hai eka hamārā nārā |
eka bhāratī kī saṁtati hama bhārata eka hamārā ||

dainika śākhā saṁskāroṁ se
sīkheṁ nitya niyama anuśāsana |
mātṛ bhūmi prati akṣaya niṣṭhā
kareṁ samarpita tana mana dhana |
bharata bhūmi kā kaṇa kaṇa tṛṇa tṛṇa hai prāṇoṁ se pyārā ||1||

rūṛhi kurīti aura vaiṣamatā
ūca-nīca kā bhāva miṭākara
saṁgaṭhanā kī śaṁkha dhvani ho
bāndhu bandhu kā bhāva jagākara |
nava jāgṛti kā sūrya ugā deṁ hai saṁkalpa hamārā ||2||

jāti pantha kā bheda toḍakara |
prānta moha kā bhūta bhagāye
bhāṣāoṁ kā ahaṁ miṭākara |
khoī ekātmatā milāyeṁ
hindu hindu saba eka raheṁ mila hai kartavya hamārā ||3||

apane śīla teja pauruṣa se|
kareṁ saṁgaṭhita hindū sāre
dharatī se lekara ambara taka |
guja uṭhe jaya bhārata pyārā|
pratipala cintana dhyeya -deva kā jīvana kārya hamārā||4||

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply