हिन्दु भूमि का कण कण हो अब शक्ति का अवतार उठे
जल थल से अम्बर से फिर हिन्दु का जय जय कार उठे
जग जननी का जय कार उठे

उच्च हिमालय से ले ध्रुदता सागर से गांभीर्य महान
माँ वसुधा से सहन शीलता गंगा से शुभ सर्गिक गान
देने को उत्साह अमित है सर्व श्रेष्ठ इतिहास पुराण
शुभ आशीश ले ईश्वर का अपनाए अनुपम वैदिक ग्यान
आराधे द्विज तेजो को कर दानव हाहाकार उठे
फिर मानवता साकार उठे जग जननी का जय कार उठे
जल थल से अम्बर से फिर हिन्दु का जय जय कार उठे…जग जननी

कंस दशानन के शासन से जब दुनिया थर्राती थी
मानवता पर दानवता की श्याम घटा घहराती थी
राम कृष्ण की दिव्य किरण से माँ जग में सुख पाती थी
इसी लिये तो माता जग में वन्दनीय कहलाती थी
उस माता की गोदी से फिर वीरों की ललकार उठे
सोया अतीत हूंकार उठे जग जननी का जय कार उठे
जल थल से अम्बर से फिर हिन्दु का जय जय कार उठे… जग जननी

अपमानित जीवन पाने का यह अवसर ही क्यों आया
पाप किये थे हम ने अपने कर्मों का ही फल पाया
अब आंखे खुल गयीं हमारी दूर भगा दें सब माया
आज जगत को दिखला दें हम अपनी परिवर्तित काया
कोटि कोटि हाथों वाली माँ का अद्भुत आकार उठे
लख विश नयन विस्फार उठे जग जननी का जय कार उठे
जल थल से अम्बर से फिर हिन्दु का जय जय कार उठे…. जग जननी

रोने से निराश होने से बन सकता कुछ काम नहीं
शांत चित्त से हंसते हंसते गाते जायें गान यही
माँ तेरे सत पुत्रों को अब बहकाना आसान नहीं
देह रहे न रहे पर माँ का सह सकते अपमान नहीं
हृतन्त्रीत के तार तार से गीत की झन्कार उठे
फिर गाण्डीव तंकार उठे जग जननी का जय कार उठे
जल थल से अम्बर से फिर हिन्दु का जय जय कार उठे ….जग जननी

English Transliteration:

Hindu Bhoomi Kaa Kan Kan Ho Ab Shakti Kaa Avataar Uthe
Jal Thal Se Ambar Se Phir Hindu Kaa Jay Jay Kaar Uthe
Jag Jananee Kaa Jay Kaar Uthe

Uchch Himaalay Se Le Dhrudataa Saagar Se Gaambheerya Mahaan
Maa Vasudhaa Se Sahan Sheelataa Gangaa Se Shub Swargik Gaan
Dene Ko Utsaah Amit Hai Sarva Shreshth Itihaas Puraan
Shubh Aasheesh Le Eeshwar Kaa Apanaayen Anupam Vaidik Gyaan
Aaraadhen Dwij Tejon Ko Kar Daanav Haahaakaar Uthe
Phir Maanavataa Sakaar Uthe Jag Jananee Kaa Jay Kaar Uthe
Jal Thal Se Ambar Se Phir Hindu Kaa Jay Jay Kaar Uthe …Jag Jananee

Kans Dashaanan Ke Shaasan Se Jab Duniyaa Tharraatee Thee
Maanavtaaa Par Daanavataa Kee Shyaam Ghataa Ghaharaatee Thee
Raam Krishna Kee Divya Kiran Se Maa Jag Men Sukh Paatee Thee
Isee Liye To Maataa Jag Men Vandaneeya Kahlaatee Thee
Us Maataa Kee Godee Se Phir Veeron Kee Lalakaar Uthe
Soyaa Ateet Hoonkaar Uthe Jag Jananee Kaa Jay Kaar Uthe
Jal Thal Se Ambar Se Phir Hindu Kaa Jay Jay Kaar Uthe …Jag Jananee

Apamaanit Jeevan Paane Kaa, Yaha Avasar Hee Kyon Aayaa?
Paap Kiye The Ham Ne Apane Karmon Kaa Hee Phal Paayaa
Ab Aankhe Khul Gayeen Hamaaree, Door Bhagaa Den Sab Maayaa
Aaj Jagat Ko Dikhalaa Den Ham Apanee Parivartit Kaayaa
Koti Koti Haathon Vaalee Maa Kaa Adbhut Aakaar Uthe
Lakh Vishwa Nayan Visphaar Uthe Jag Jananee Kaa Jay Kaar Uthe
Jal Thal Se Ambar Se Phir Hindu Kaa Jay Jay Kaar Uthe …Jag Jananee

Rone Se Niraash Hone Se Ban Sakata Kuchh Kaam Naheen
Shaant Chitt Se Hansate Hansate Gaate Jaayen Gaan Yahee
Maa Tere Sat Putron Ko Ab Bahakaana Aasaan Naheen
Deh Rahe Na Rahe Par Maa Kaa Sah Sakate Apamaan Naheen
Hritantree Ta Ke Taar Taar Se Geeta Kee Jhankaar Uthe
Phir Gaandeev Tankaar Uthe Jag Jananee Kaa Jay Kaar Uthe
Jal Thal Se Ambar Se Phir Hindu Kaa Jay Jay Kaar Uthe …Jag Jananee

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply