घर-आंगन, चौबारे, गलियारे में आज रंगों की धूम है। होली के उल्लास में उमड़ते इन रंगों में कई चिंतन के रंग भी शामिल हैं। जिनसे तन नहीं मन भीग रहा है। हमारा और शायद आपका भी, परिस्थिति एवं परिवेश को तनिक गहराई से देखेंगे तो इन रंगों का अनुमान होगा। अपने आप में उतरेंगे तो चिंतन के इन रंगों की चटख और शोख छटा नजर आएगी। इनमें उल्लास के साथ विषाद का भी पुट है। खुशी के साथ गम भी है यहां। हंसी के साथ रुदन भी यहां बिखरे हैं। चिंतन के इन रंगों में सारी इंसानी जिंदगी का वजूद आ सिमटा है। पिचकारियां हमारे ऊपर आपके ऊपर इन रंगों को उड़ेल रही है। जो भी विचारशील हैं उनमें से कोई चिंतन के रंगों की इस फुहार से बच नहीं सकता।

होली की सुप्रसिद्ध कहावत है-‘बुरा न मानो होली है।’ तब फिर बुरा मानने की क्या जरूरत है। आप भी हमारे साथ भीगिये इन चिंतन के रंगों में और मित्रों-परिचितों को भी बचने न दीजिए, उन्हें भी भिगोइए इन गाढ़े रंगों में। सदस्य परिवार के हों या पड़ोस के कोई भी छूटने न पाये। हम आप और सभी विचारशील जन मजबूती से थाम लें अपनी पिचकारियां और उड़ेलें चिंतन के रंग एक-दूसरे पर। हमारी, हम सबकी विचारशीलता में विमर्श पैदा हो, मतों में दुराग्रह की बजाय पारस्परिक संवाद की स्थिति बने और अंततः समाधान जन्म ले। तभी तो उल्लास में सार्थकता आएगी। सहस्राब्दियां, शताब्दियां बीत गयी हमें होली मनाते। कई रंग देखें हैं हम सबने। कई गीत गाये हैं हमने। कई धुनें छेड़ी हैं। कई रंगों और कई तालों ने हमारी जिंदगी को लय दी है। वैदिक ऋचाओं की गूंज और सामगान की सुमधुर ध्वनि के साथ होली मनाना शुरू किया था हमने। अपने आचरण और कर्त्तव्यनिष्ठ, प्रचण्ड तप और अविराम साधना से हमीं ने जिंदगी को ऐसा गढ़ा था कि देवता भी हमारे घर-आंगन में आकर हम सबसे होली खेलते थे। देवत्व हमारी निजी जिंदगी की परिभाषा थी। स्वर्ग हमारी सामाजिक जिंदगी का सच था। ऐसा नहीं था कि इस क्रम में व्यतिक्रम के अवसर नहीं आए। असुरता ने अपनी हुंकार भरी, हिरण्यकश्यप और होलिका के सहोदर षड्यंत्रों ने हमारे देवत्व और स्वर्ग को मटियामेट करने का कुचक्र रचा। पर हमारे प्रह्लाद-पराक्रम ने आसुरी प्रवृत्ति के इन भाई-बहिन को पनपने नहीं दिया। अपनी ही नफरत की आग में होलिका जल मरी। भगवान नृसिंह ने असुरता का वक्ष विदीर्ण कर दिया और होली के गीत-प्रह्लाद की भक्ति की थिरकन के साथ गूंज उठे।

प्रेम का स्वांग भरे होलिका आज भी नफरत फैला रही है। घर-परिवार की टूटन, जाति-वंश का भेद, संप्रदायों और धर्मों की दीवारें, भाषा और क्षेत्र के विभाजन इन नफरत को बढ़ावा दे रहे हैं। चतुर होलिका हमारे-हम सबके प्रह्लाद-पराक्रम के अभाव में सफल है। सवाल हमसे है और आप से भी कि आखिर कहाँ खो गयी वह साधना, प्रचण्ड तप करने का वह पुरुषार्थ, जिस पर रीझकर भगवान नृसिंह हमारे-हम सबके अंतःकरण में अवतरित हो सके। ध्यान रहे- भगवान केवल भक्तों और तपस्वियों को वरदान देते हैं। भावसंवेदना की सघनता और पुरुषार्थ की प्रचण्डता ही प्रभु के वरदान की अधिकारी बनती है। निष्ठुर और कायर तो सदा ही दुःख भोगते आए हैं।

इस स्थिति से उबरना है तो आसुरी षड़्यंत्रों का भेद समझना होगा। नफरत की विषाक्त बेल को जड़ से उखाड़कर संवेदना और पराक्रम के सघन उद्यान रोपने होंगे। भगवान तो सदा से हमारे बीच आने के लिए तैयार हैं, पर हमीं कहीं अपनी सत्पात्रता नहीं सिद्ध कर पा रहे हैं। अन्यथा नन्दनन्दन तो सदा से यही चाहते हैं कि हम सबकी होली में वही उल्लास बिखरे जो उन्होंने कभी बरसाने में बिखेरा था। ‘सम्भवामि युगे-युगे’ का उनका वचन निरर्थक नहीं है। प्रभु भक्तों के आह्वान पर अवतरण के लिए प्रतिज्ञा बद्ध हैं। पर हममें से हर एक से वह एक ही बात कह रहे हैं- ‘क्लैव्य माँ स्म गमः’ छोड़े इस क्लीवता और कायरता को। ‘मामनुस्मर युध्यस्व च’ मेरा स्मरण करते हुए युद्ध करो।

सघन संवेदना और महा पराक्रम का उच्च आदर्श प्रस्तुत करके गीता गायक ने होली को एक नयी परिभाषा दी थी। बरसाने की होली में उन्होंने जीवन के कई रंग बिखेरे थे। शुद्ध सात्त्विक और निर्मल प्रेम से भरी अपनी चिंतन फुहारों से उन्होंने अनेकों अन्तःकरण रंगे थे। भक्ति व प्रेम के अगणित रंगों के साथ उन्होंने पराक्रम का गुलाल भी उड़ाया था। कंस हो या कालयवन, जरासंध हो अथवा दुर्योधन किसी के आसुरी षड्यंत्रों को उन्होंने पनपने नहीं दिया। मानवीय हितों के खिलाफ कोई भी दुरभिसंधि उन्होंने चलने नहीं दी। अपने युग के अनुरूप प्रभु ने होली को नये अर्थ दिये।

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply