जलते जीवन के प्रकाश में अपना जीवन तिमिर हटायें
उस दधीची की तपः ज्योति से एक एक कर दीप जलाएंजल जल दीप प्रखर तेजस्वी अरुणांचल माता का कर दे
अमृतमय शोभामय मधुमय भारत भू वैभव से भर दे
निज आदर्श रख निज जीवन को हंसते हंसते भेंट चढाएं …जलते

जागें जगाये मात्रु भूमि को पुण्य भूमि को जन्मा भूमि को
अर्पित कर दें जीवन की तरुनाई पावन देव भूमि को
तन में शक्ति ह्रदय में बल दो प्रभु वह ज्योति पुनः प्रकटांए …जलते

नहीं चाहिए पद यश गरिमा सभी चढें माँ के चरणों में
भारत माता की जय केवल शब्द पड़े जग के कारणों में
आशा रख विश्वास बहडा कर श्रद्धामय जीवन अपनाएं …जलते

Jalate Jeevan Ke Prakaash Men Apanaa Jeevan Timir Hataayen
Us Dadheechi Kee Tapah Jyoti Se Ek Ek Kar Deep Jalaayen

Jal Jal Deep Prakhar Tejasvee Arunaanchal Maataa Kaa Kar De
Amrutmay Shobhaamay Madhumay Bhaarat Bhoo Vaibhav Se Bhar De
Nij Aadarsh Rakh Nij Jeevan Ko Hansate Hansate Bhent Chadhaayen …Jalate

Jagen Jagaayen Maatru Bhoomi Ko Punya Bhoomi Ko Janma Bhoomi Ko
Arpit Kar Den Jeevan Kee Tarunaaee Paavan Dev Bhoomi Ko
Tan Men Shakti Hriday Men Bal Do Prabhu Vah Jyoti Punah Prakataayen …Jalate

Naheen Chaahiye Pad Yash Garimaa Sabhee Chadhen Maa Ke Charanon Men
Bhaarat Maataa Kee Jay Keval Shabd Pade Jag Ke Karnon Men
Aashaa Rakh Vishwaas Bhadhaa Kar Shraddhaamay Jeevan Apanaayen …Jalate

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply