क्यों कर रिहा से तू रोले मैं तेरी दासी सु भोले
तेरे संग व्याह करवाना से श्री शम्भू नाथ जी तेरे चरणों में मने ध्यान लगाना से

मान जा मेरी गोरा प्यारी तू राजा की राज दुलारी मैं सिर पे लंगोटे आला सु
भांग रगड के पिया करू मैं कुण्डी सोटे वाला हु
मैं करू गुजारा पहाड़ा मैं बिन मेह्लो के रेह लुंगी
तेरी बना ले मने भोले मैं सब दुःख सुख सेह लुंगी
तने धन माया का बोरा चाहिए झुल्फा आला छोरा चाहिए
मैं लम्बे चोटे आला सु
भांग रगड के पिया करू मैं कुण्डी सोटे वाला हु
तीन लोक का दाता से तू दया मेरे भी कर ले
तेरे बिना न रहता हु तू मेरा दुःख कर ले रे
बड़े नाग गले में टूटे रे जागी मांगे राम भोज मर जागी
मैं जबर भरोते आला सु
भांग रगड के पिया करू मैं कुण्डी सोटे वाला हु

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply