मैं सूना प्रीतां नाल, मुरली मोहन दी

शावा मुरली मोहन दी, बल्ले मुरली मोहन दी

मोहन देवकी जाया, शावा…
मथुरा तो गोकुल आया, शावा…
यशोदा ने आप खडाया, शावा…
मैं जावा वे बलिहार, मुरली मोहन दी…
शावा मुरली मोहन दी, बल्ले मुरली मोहन दी…

मोहन यमुना किनारे, शावा…
नाला गौआँ चरावे, शावा…
नाल ने सखा प्यारे, शावा…
ओहदे बंसी वज्जे कमाल, मुरली मोहन दी…
शावा मुरली मोहन दी, बल्ले मुरली मोहन दी…

बंसी मधुवन वज्जे, शावा…
नाले गोपिया नच्चे, शावा…
इक दूजे नु दस्से, शावा…
राधा मोहन करें कमाल, मुरली मोहन दी…
शावा मुरली मोहन दी, बल्ले मुरली मोहन दी..

,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply