मेरे शिव डमरू वाले,हमें चरणों से लगाले

पड़ी मझधार में नैया भोले उसे पार लगादे
रहे बनके सेवादार हमकांधे पे उठा के चले
कवाड़ तेरी हम
बम भोले बम भोले बम बम बम बम

भोले तेरे रूप ने मन मेरा मोह लिया
कावड़ियों का भोले तने दिल ही लूट लिया
ओघड़दानी नाम तेरा हमने रट लिया
बम भोले बम भोले बम बम, बम, बम
मेरे शिव डमरू वाले,,,,,,,,,

भोले तेरी मस्ती का रंग ऐसा चढ़ गया
कावड़ियों के अंग अंग में यो बस गया
भोले तेरे नाम का डंका बज गया
बम भोले बम भोले बम बम बम बम
मेरे शिव डमरू वाले,,,,,,,,,

बम भोले बम भोले गूजे जयकारा है
कावड़ियों की राह में ये ही इक सहारा है
भोले तेरा सचा राही भी दीवाना है
बम भोले बम भोले बम बम बम बम
मेरे शिव डमरू वाले,,,,,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply