नक्षत्रशान्ति स्तोत्रम् – जब एक जातक का जन्म होता है, तो चंद्रमा और अन्य ग्रहों में उनके विशिष्ट राशि चिन्ह होते हैं जिनमें वे मौजूद होते हैं और उनका जन्म लेने वाले जातक के जीवन पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है। जन्म के दौरान चंद्रमा प्रबल होता है। यह दृष्टिकोण, व्यक्तित्व, शारीरिक बनावट और भविष्य को प्रभावित करता है। ग्रहों की शांति के लिए नवग्रह शांति विधि करावें या नवग्रह स्तोत्र का पाठ करें।

इन ग्रहों के अलावा, २७ नक्षत्र चंद्र पथ का विभाजन करते हैं। यह भी व्यक्ति के जीवन पर प्रभाव डालते है। यह व्यक्ति के जन्म के समय प्रबल होता है। जन्म नक्षत्र सोच की दिशा, भाग्य, प्रतिभा को नियंत्रित करता है और व्यक्तित्व के अवचेतन प्रभावों को भी नियंत्रित करता है।

नक्षत्र शांति पूजा क्यों किया जाता है?

नक्षत्र शांति पूजा किस दोष के निवारण के लिए करवाई जाती है?

नक्षत्र दोष क्या होता है और इसका प्रभाव क्या होता है?

हिंदू पंचांग के अनुसार २७नक्षत्र होते हैं। इसमें कुछ नक्षत्र शुभ फल देते है, तो कुछ अशुभ फल देते है। जो अशुभ, उनकी शांति कराना जरूरी होता है। नक्षत्र शांति पूजा नक्षत्रों के बुरे प्रभावों को दूर करने के लिए की जाती है । नक्षत्र शांति पूजा सुरक्षा और बेहतर परिणाम प्राप्त करने के लिए जन्म नक्षत्र पर हर वर्ष संपन्न करनी चाहिए। नक्षत्र शांति पूजा का उद्देश्य किसी व्यक्ति के जन्म के समय के अशुभ नक्षत्रों के प्रभावों को दूर करना होता है। अशुभ नक्षत्र एक व्यक्ति को इस हद तक प्रभावित करता है कि वह इसके प्रभाव से ठीक होने में असमर्थ जब हो जाता है, उस समय नक्षत्र शांति पूजा को कराना चाहिए। शास्त्रों में बताया गया है कि नक्षत्र शांति पूजा के माध्यम से नक्षत्रों के देवताओं को शांत किया जाता है।नक्षत्रों की अधिक जानकारी के लिए पंचाङ्ग नक्षत्र ज्ञान पढ़े ।

गण्डमूल किसे कहते हैं?

गण्डान्त दोष क्या है?

गंड मूल नक्षत्रों की शांति के उपाय क्या है?

मूल नक्षत्र में जन्म लेने वाले बच्चों को उनके पिता को कुल इतने दिनों तक नहीं देखना चाहिए?

गंड मूल नक्षत्रों का वास कब कहाँ होता है?

इन सारे प्रश्नों के उत्तर जानने के लिए पढ़े- गंड मूल नक्षत्र ।

ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार २७नक्षत्र होते हैं। वे चंद्र मार्ग के २७ समान भाग हैं।

चंद्रमा के परिक्रमा मार्ग को समान रूप से २७ क्षेत्र में विभाजित किया गया है।

इसके अलावा, इसमें एक और नक्षत्र शामिल है जिसे चार चरणों में विभाजित किया गया है।

२७ में से, जो ग्रह बुध और केतु द्वारा शासित हैं, वे गंड मूल नक्षत्र हैं।

गंडमूल नक्षत्र शांति पूजा विशेष रूप से गंडमूल नक्षत्रों के बुरे प्रभावों के लिए है।

यह व्यक्ति के जन्म के समय प्रबल होता है।

आचार्यों द्वारा इस पूजा को जन्म के 27 दिनों के भीतर किया जाना चाहिए।

नक्षत्र दोष के निवारण के लिए नक्षत्र शांति पूजा या नक्षत्र सूक्तम् या नक्षत्रशान्ति स्तोत्रम् का नित्य पाठ करना चाहिए-

अथ नक्षत्रशान्ति स्तोत्रम्

कृत्तिका परमा देवी रोहिणी रुचिरानना ॥ १॥

श्रीमान् मृगशिरा भद्रा आर्द्रा च परमोज्ज्वला ।

पुनर्वसुस्तथा पुष्य आश्लेषाऽथ महाबला ॥ २॥

नक्षत्रमातरो ह्येताः प्रभामालाविभूषिताः ।

महादेवाऽर्चने शक्ता महादेवाऽनुभावितः ॥ ३॥

पूर्वभागे स्थिता ह्येताः शान्तिं कुर्वन्तु मे सदा ।

मघा सर्वगुणोपेता पूर्वा चैव तु फाल्गुनी ॥ ४॥

उत्तरा फाल्गुनी श्रेष्ठा हस्ता चित्रा तथोत्तमा ।

स्वाती विशाखा वरदा दक्षिणस्थानसंस्थिताः ॥ ५॥

अर्चयन्ति सदाकालं देवं त्रिभुवनेश्वरम् ।

नक्षत्रमारो ह्येतास्तेजसापरिभूषिताः ॥ ६॥

ममाऽपि शान्तिकं नित्यं कुर्वन्तु शिवचोदिताः ।

अनुराधा तथा ज्येष्ठा मूलमृद्धिबलान्वितम् ॥ ७॥

मूला ऋद्धिबलान्वितता पूर्वाषाढा महावीर्या आषाढा चोत्तरा शुभा ।

अभिजिन्नाम नक्षत्रं श्रवणः परमोज्ज्वलः ॥ ८॥

एताः पश्चिमतो दीप्ता राजन्ते राजमूर्तयः ।

ईशानं पूजयन्त्येताः सर्वकालं शुभाऽन्विताः ॥ ९॥

मम शान्तिं प्रकुर्वन्तु विभूतिभिः समन्विताः ।

धनिष्ठा शतभिषा च पूर्वाभाद्रपदा तथा ॥ १०॥

उत्तराभाद्ररेवत्यावश्विनी च महर्धिका ।

भरणी च महावीर्या नित्यमुत्तरतः स्थिताः ॥ ११॥

शिवार्चनपरा नित्यं शिवध्यानैकमानसाः ।

शान्तिं कुर्वन्तु मे नित्यं सर्वकालं शुभोदयाः ॥ १२॥

इति नक्षत्रशान्ति स्तोत्रम् सम्पूर्णम् ।

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply