फूलों में सज रहे हैं श्री वृन्दावन बिहारी- Phoolon Me Saj Rahen Hain Shree Varindavan Bihari Krishna Bhajan

फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन बिहारी।
और संग में सज रही है वृषभानु की दुलारी॥

टेडा सा मुकुट सर पर रखा है किस अदा से,
करुना बरस रही है, करुना भरी निगाह से।
बिन मोल बिक गयी हूँ, जब से छबि निहारी॥

बहिया गले में डाले जब दोनों मुस्कुराते,
सब को ही प्यारे लगते, सब के ही मन को भाते।
इन दोनों पे मैं सदके, इन दोनों पे मैं वारी॥

श्रृंगार तेरा प्यारे, शोभा कहूँ क्या उसकी,
इत पे गुलाबी पटका, उत पे गुलाबी साडी॥

नीलम से सोहे मोहन, स्वर्णिम सी सोहे राधा।
इत नन्द का है छोरा, उत भानु की दुलारी॥

चुन चुन के कालिया जिसने बंगला तेरा बनाया,
दिव्या आभूषणों से जिसने तुझे सजाया,

Phoolon Me Saj Rahen Hain Shree Varindavan Bihari Krishna Bhajan

phoolon men saj rahe hain, shree vrindaavan bihaaree.
aur sang men saj rahee hai vrishabhaanu kee dulaaree..

teda sa mukut sar par rakha hai kis ada se,
karuna baras rahee hai, karuna bharee nigaah se.
bin mol bik gayee hoon, jab se chhabi nihaaree..

bahiya gale men daale jab donon muskuraate,
sab ko hee pyaare lagate, sab ke hee man ko bhaate.
in donon pe main sadake, in donon pe main vaaree..

shrringaar tera pyaare, shobha kahoon kya usakee,
it pe gulaabee pataka, ut pe gulaabee saadee..

neelam se sohe mohan, svarnim see sohe raadhaa.
it nand ka hai chhora, ut bhaanu kee dulaaree..

chun chun ke kaaliya jisane bangala tera banaaya,
divya aabhooshanon se jisane tujhe sajaaya,

Leave a Reply