प्रभु की याद में घड़ियाँ जो जीवन की बिताएगा Prabhu Ki Yaad Me Ghadiyaa

प्रभु की याद में घड़ियाँ जो जीवन की बितायेगा । कमाई का यह धन है , सफर में काम आएगा ।

बिना इसके किसी धन ने कभी न साथ जाना है ,
सिकन्दर की दशा सब को सुना कर के चेताना है ।
गया जो चेत निश्चय ही प्रभु को न भुलाएगा । । ( १ )

महाजन बन गये लाखों प्रभु से नेह लगा करके ,
निभाया धर्म याचक का किसी के काम आ करके ।
इसी यश को कमा करके अमर यश को बनाएगा ।।२।।

लगा श्वासों की पूँजी को अमर साथी के चिन्तन में,
अनोखे काम कर डाले ऋषि सेवा के जीवन में ।
पढ़ेगा जो ऋषि – जीवन इसी शिक्षा को पायेगा ।।३।।

कमाना देश इस धन को , कमाया जा सके जितना ,
बुराइयों से बचा निज को , बचाया जा सके जितना ।
विदाई के समय तू भी ऋषि सम मुस्कराएगा ।।४।।

Leave a Reply