Sangh Hriday Me Dhar Chuke Ab-संघ ह्रदय में धार चुके अब

संघ ह्रदय में धार चुके अब
घर-घर हमको जाना है
घर-घर हमको जाना है॥ध्रु०॥

संघ कार्य जीवन व्रत मेरा
कभी न यह बिसराना है।
अहंकार व्यक्तितत्व ह्रदय से
पूर्ण मिटाकर चलना है।
तत्व ज्ञान की शिक्षा पाकर
स्वर्णिम समय बिताना है।
तत्व सुधारस पीकर निज को
अमृत पूर्ण बनाना है॥१॥

हिन्दु एक अपनत्व भावना
रोम -रोम में भरना है।
हिन्दु ह्रदय सब एक रुप कर
बिन्दु सिन्धुवत करना है।
ह्रत्सीमा के बाहर अपने
संघ शक्ति प्रकटाना है।
कार्य कुशलता से अपना
आगे पैर बढ़ाना है॥२॥

सिध्दांतो पर अपने डटकर
संघ नींव को भरना है।
निर्भय होकर दृढ़ता से
अब विपत्तियों से लड़ना है।
अन्तरंग बहिरंग हमारा
एक समान सुनिर्मल है।
राष्ट्रीयता का अनुभव निज
कार्यरुप में लाना है॥३॥

संघ शक्ति के प्रकर्ष में ही
हिन्दु ह्रदय उत्कर्ष भरा।
संघ शक्ति के प्रकर्ष में ही
रिपु दल का है नाश भरा।
राष्ट्र भक्ति की प्रदीप्त ज्वाला
धधक रही मन मन्दिर में
जल से जल सायुज्य मुक्ति का
तेज भरे प्रभु भारत में॥५॥

saṁgha hradaya meṁ dhāra cuke aba
ghara-ghara hamako jānā hai
ghara-ghara hamako jānā hai ||dhru0||

saṁgha kārya jīvana vrata merā
kabhī na yaha bisarānā hai |
ahaṁkāra vyaktitatva hradaya se
pūrṇa miṭākara calanā hai |
tatva jñāna kī śikṣā pākara
svarṇima samaya bitānā hai |
tatva sudhārasa pīkara nija ko
amṛta pūrṇa banānā hai ||1||

hindu eka apanatva bhāvanā
roma -roma meṁ bharanā hai |
hindu hradaya saba eka rupa kara
bindu sindhuvata karanā hai |
hratsīmā ke bāhara apane
saṁgha śakti prakaṭānā hai |
kārya kuśalatā se apanā
āge paira baṛhānā hai ||2||

sidhdāṁto para apane ḍaṭakara
saṁgha nīṁva ko bharanā hai |
nirbhaya hokara dṛṛhatā se
aba vipattiyoṁ se laṛanā hai |
antaraṁga bahiraṁga hamārā
eka samāna sunirmala hai |
rāṣṭrīyatā kā anubhava nija
kāryarupa meṁ lānā hai ||3||

saṁgha śakti ke prakarṣa meṁ hī
hindu hradaya utkarṣa bharā |
saṁgha śakti ke prakarṣa meṁ hī
ripu dala kā hai nāśa bharā |
rāṣṭra bhakti kī pradīpta jvālā
dhadhaka rahī mana mandira meṁ
jala se jala sāyujya mukti kā
teja bhare prabhu bhārata meṁ ||5||

Leave a Reply