राम नाम मधुबन का,
भ्रमर बना, मन शिव का।
निश दिन सिमरन करता,
नाम पुण्यकारी॥

शंकर शिव शम्भु,
साधु सन्तन सुखकारी ॥
निश दिन सिमरन करते,
नाम पुण्यकारी ॥

लोचन त्रय अति विशाल,
सोहे नव चन्द्र भाल,
रुण्ड मुण्ड व्याल माल,
जटा गंग धारी ।
शंकर शिव शम्भु,
साधु सन्तन सुखकारी ॥

शंकर शिव शम्भु,
साधु सन्तन सुखकारी ॥
सतत जपत राम नाम,
अतिशय शुभकारी ॥

पारवती पति सुजान,
प्रमथ राज वृषभ यान,
सुर नर मुनि सैव्यमान,
त्रिविध ताप हारी ।
शंकर शिव शम्भु,
साधु सन्तन सुखकारी ॥

औघड़ दानी महान,
कालकूट कियो पान,
आरत-हर तुम समान,
को है त्रिपुरारी।
शंकर शिव शम्भु,
साधु सन्तन सुखकारी ॥

 

Ram Naam Madhuban Ka,
Bhramar Bana, Man Shiv Ka ।
Nish Din Simran Karta,
Naam Punyakari ॥

Shankar Shiv Shambhu,
Sadhu Santan Sukhkari ॥
Nish Din Simaran Karte,
Naam Punyakari ॥

Lochan Traya Ati Vishal,
Sohe Nav Chandr Bhal,
Rund Mund Vyaal Maal,
Jata Gang Dhari ।
Shankar Shiv Shambhu,
Sadhu Santan Sukhkari ॥

Shankar Shiv Shambhu,
Sadhu Santan Sukhkari ॥
Satat Japat Ram Naam,
Atishay Shubhkari ॥

Parvati Pati Sujan,
Pramath Raaj Vrishabh Yaan,
Sur Nar Muni Saivyaman,
Trividh Taap Hari ।
Shankar Shiv Shambhu,
Sadhu Santan Sukhkari ॥

Aughad Dani Mahan,
Kalkut Kiyo Paan,
Aarat-har Tum Saman,
Ko Hai Tripurari ।
Shankar Shiv Shambhu,
Sadhu Santan Sukhkari ॥

, , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply