सुना है आँगन,
और सुना ये मन,
गुरुवर ना जाओ,
यही कहती है धड़कन,
तुम छोड़ के जाओगे,
हम सबको रुलाओगे,
यादो के मीठे पल,
हरदम याद आएंगे,
प्यारी गुरुवाणी है,
बडी ही सुहानी है,
आज है विदाई गुरुवर,
आंसू की रवानी है,
सुना है आंगन,
और सुना ये मन,
गुरुवर ना जाओ,
यही कहती है धड़कन।।

तर्ज – चाहा है तुझको।

गुरु के बिन कोई भी,
ज्ञान कहाँ पाए,
ज्ञान अमृत देने तुम,
खुद ही चले आए,
प्रेम का धागा ऐसा बांधा,
अब तोडा ना जाए,
चौमासा हुआ पावन,
धर्म लाभ है हमें,
शब्द और सुर का संगम,
मानते है हम तुम्हे,
सुना है आंगन,
और सुना ये मन,
गुरुवर ना जाओ,
यही कहती है धड़कन।।

पापा का सपना था,
वो पूरा हो गया,
चौमासे में रानीवाडा,
पावन हो गया,
कई चढ़ावे कई तपस्या,
सफल हुआ चौमासा,
रत्नाकर सूरी जी,
गुरु हमने पाए है,
पापा के आशीष भी,
खूब रंग लाए है,
सुना है आंगन,
और सुना ये मन,
गुरुवर ना जाओ,
यही कहती है धड़कन।।

सुना है आँगन,
और सुना ये मन,
गुरुवार ना जाओ,
यही कहती है धड़कन,
तुम छोड़ के जाओगे,
हम सबको रुलाओगे,
यादो के मीठे पल,
हर दम याद आएगे,
प्यारी गुरु वाणी है,
बडी ही सुहानी है,
आज है विदाई गुरुवर,
आंसू रवानी है,
सुना है आंगन,
और सुना ये मन,
गुरुवर ना जाओ,
यही कहती है धड़कन।।

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply