।। सर्वश्रेष्ठ ५ वैदिक मंत्र-हिंदी के अर्थ सहित ।।

॥ ॐ पूर्णमदः पूर्णमिदं पूर्णात् पूर्णमुदच्यते। पूर्णस्य पूर्णमादाय पूर्णमेवावशिष्यते ॥
अर्थ:- वह सच्चिदानंदघन परमात्मा सभी प्रकार से सदा परिपूर्ण है।यह जगत भी उस परब्रह्म से पूर्ण ही है, क्योंकि यह पूर्ण उस पूर्ण पुरुषोत्तम से ही उत्पन्न हुआ है ॥

॥ ॐ असतो मा सद्गमय तमसो मा ज्योतिर्गमय । मृत्योर्मा अमृतं गमय ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥
अर्थ – हे प्रभु, मुझे सत्य का मार्ग दिखाओ जो मुझे अधर्म से बचाएगा, मेरे भीतर के अंधकार और अज्ञान को दूर करो और प्रकाश और सच्चा ज्ञान दो, मुझे अच्छे कर्म करने में सक्षम करना, इसलिए इस दुनिया को छोड़ने के बाद भी, लोगों को मेरे कार्यों का फल मिलता है ॥

॥ ॐ भूर्भुवः स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् ॥
अर्थ – हम ईश्वर की महिमा का ध्यान करते हैं, जिसने इस संसार को उत्पन्न किया है, जो पूजनीय है, जो ज्ञान का भंडार है, जो पापों तथा अज्ञान को दूर करने वाले हैं- वह हमें प्रकाश दिखाए और हमें सत्य के पथ पर ले जाए ॥

॥ ओंकारं बिन्दुसंयुक्तं नित्यं ध्यायन्ति योगिनः। कामदं मोक्षदं चैव ओंकाराय नमो नमः ॥
अर्थ:- उन्हें नमस्कार, जो ओमकारा के रूप में आध्यात्मिक हृदय केंद्र में रहते हैं, जिन पर योगियों का ध्यान केंद्रित है, जो सभी इच्छाओं को पूरा करता है और अपने भक्तों को मुक्ति भी देता है। उस शिव को नमस्कार, जिसे शब्दांश “ओम” द्वारा दर्शाया गया है ॥

॥ ॐ स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवाः। स्वस्ति नः पूषा विश्ववेदाः।
स्वस्ति नस्तार्क्ष्यो अरिष्टनेमिः। स्वस्ति नो बृहस्पतिर्दधातु ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥
अर्थ – कीर्तिवाले ऐश्वर्यशाली इन्द्रदेव हमारा कल्याण करें, सबके पोषणकर्ता वे सूर्यदेव हमारा कल्याण करें। जिनकी चक्रधारा के समान गति को कोई रोक नहीं सकता, वे गरुड़देव हमारा कल्याण करें। वेदवाणी के स्वामी बृहस्पति हमारा कल्याण करें ॥

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply