Uccha Ujjval Him shikhar-उच्च उज्ज्वल हिम -शिखर

उच्च उज्ज्वल हिम -शिखर सम देवता की दिव्य गरिमा।
तुम स्वयं ही बन गये थे ध्येय की साकार प्रतिमा

स्नेह पाकर ध्येय का यह देह बाती बन गया था
और तिल -तिल के ज्वलन में ज्योति जीवन हो गया था
आज है निर्वाण दीपक किन्तु अक्षुण्ण ज्योति-गरिमा
उच्च उज्ज्वल ॥१॥

ध्येय को ही देव कह कर ह्रदय मन्दिर में बसाया
देवता के युग-पदों में अर्घ्य जीवन का चढाया।
कोटि उर में आज बिम्बित ध्येय की वह दिव्य प्रतिमा
उच्च उज्ज्वल ॥२॥

राह कण्टकमय बताकर स्वयं ही पथ पर चले थे
नयन प्रमुदित चरण दृढतम पथिक आजीवन रहे थे
बस इसी से बन गये तुम प्रेरणा की दिव्य प्रतिमा
उच्च उज्ज्वल ॥३॥

ucca ujjvala hima -śikhara sama devatā kī divya garimā |
tuma svayaṁ hī bana gaye the dhyeya kī sākāra pratimā

sneha pākara dhyeya kā yaha deha bātī bana gayā thā
aura tila -tila ke jvalana meṁ jyoti jīvana ho gayā thā
āja hai nirvāṇa dīpaka kintu akṣuṇṇa jyotia-garimā
ucca ujjvala ||1||

dhyeya ko hī deva kaha kara hradaya mandira meṁ basāyā
devatā ke yuga-padoṁ meṁ arghya jīvana kā caḍhāyā |
koṭi ura meṁ āja bimbita dhyeya kī vaha divya pratimā
ucca ujjvala ||2||

rāha kaṇṭakamaya batākara svayaṁ hī patha para cale the
nayana pramudita caraṇa dṛḍhatama pathika ājīvana rahe the
basa isī se bana gaye tuma preraṇā kī divya pratimā
ucca ujjvala ||3||

Leave a Reply