Uga Surya kaisa-उगा सूर्य कैसा कहो मुक्ति का ये

उगा सूर्य कैसा कहो मुक्ति का ये
उजाला करोड़ों घरों में न पहुँचा।
खुला पिंजरा है मगर रक्त अब भी
थके पंछियों के परों में न पहुँचा॥

न संयम-व्यवस्था न एकात्मता है
भरी है मनों में अभी तक गुलामी
वही राग अंग्रेजियत का अभी तक
सुनाते बड़े लोग नामी -गिरामी
लुढ़कती मदिर जिन्दगी की लयों में
अभी मुक्ति-गायन स्वरों में न पहुँचा॥ खुला ॥

मिले जा रहे धूल में रत्न अनगिन
कदरदान अपनी कदर कर रहे हैं
मिला बाँटने जो अमिय था सभी को
प्रजा का गला घोंट घर भर रहे हैं
प्रजातंत्र की धार उतरी गगन से
मगर नीर जन-सागरों में न पहुँचा॥ खुला॥

विंधा जा रहा कर्ज से रोम तक भी
न थकते कभी भीख लेकर जगत से
बिछाये चले जाल जाते विधर्मी
मगर स्वप्नदर्शी नयन हैं न खुलते
बचा देश का धन लिया तस्करों से
मगर मालिकों के करों में न पहुँचा
खुला पिंजरा है मगर रक्त अब भी
थके पक्षियों के परों में न पहुँचा॥खुला॥

ugā sūrya kaisā kaho mukti kā ye
ujālā karoṛoṁ gharoṁ meṁ na pahucā |
khulā piṁjarā hai magara rakta aba bhī
thake paṁchiyoṁ ke paroṁ meṁ na pahucā ||

na saṁyama-vyavasthā na eakātmatā hai
bharī hai manoṁ meṁ abhī taka gulāmī
vahī rāga aṁgrejiyata kā abhī taka
sunāte baṛe loga nāmī -girāmī
luṛhakatī madira jindagī kī layoṁ meṁ
abhī mukti-gāyana svaroṁ meṁ na pahucā || khulā ||

mile jā rahe dhūla meṁ ratna anagina
kadaradāna apanī kadara kara rahe haiṁ
milā bāṭane jo amiya thā sabhī ko
prajā kā galā ghoṁṭa ghara bhara rahe haiṁ
prajātaṁtra kī dhāra utarī gagana se
magara nīra jana-sāgaroṁ meṁ na pahucā || khulā ||

viṁdhā jā rahā karja se roma taka bhī
na thakate kabhī bhīkha lekara jagata se
bichāye cale jāla jāte vidharmī
magara svapnadarśī nayana haiṁ na khulate
bacā deśa kā dhana liyā taskaroṁ se
magara mālikoṁ ke karoṁ meṁ na pahucā
khulā piṁjarā hai magara rakta aba bhī
thake pakṣiyoṁ ke paroṁ meṁ na pahucā |khulā ||

Leave a Reply