Yah Kankad Patthar ret Nahi-यह कंकड़ पत्थर रेत नहीं

यह कंकड़ पत्थर रेत नहीं यह तो माता है माता है
युग-युग से रक्त लिए आता यह देश -धरम का नाता है
यह तो माता है मात है यह कंकड़ ।

पुत्रों की बाहों का बल ही
है मापदण्ड अधिकारों का
जिसके चरणों में साहस है
वह बनता स्वामी तारों का
पर जिसकी होती परंपरा –
घर उसका ही कहलाता है
यह देश…

समझौते सौदेबाजी से
माता का न्याय नहीं होता
जिसमें मृग-नायक भाव भरा
वह सिंह-सुवन जगता-सोता
पौरुष का प्रखर प्रभाव लिये
माता का नाम बढ़ाता है
यह देश…

माता के प्रश्न न हल होते
कायर जन के संख्या बल से
इकला दिनकर तम को हरता
लाखों जुगनू से बढ़कर के
जिसमें है सर्वदमन का बल
वह भारत-भाग्य विधाता है
यह देश धरम का नाता है
यह कंकड़ पत्थर रेत नहीं यह तो मात है मत है
युग-युग से रक्त लिये आत यह देश-धरम का नाता है

yaha kaṁkaṛa patthara reta nahīṁ yaha to mātā hai māta hai
yuga-yuga se rakta lie ātā yaha deśa -dharama kā nātā hai
yaha to mātā hai māta hai yaha kaṁkaṛa |

putroṁ kī bāhoṁ kā bala hī
hai māpadaṇḍa adhikāroṁ kā
jisake caraṇoṁ meṁ sāhasa hai
vaha banatā svāmī tāroṁ kā
para jisakī hotī paraṁparā –
ghara usakā hī kahalātā hai
yaha deśa…

samajhaute saudebājī se
mātā kā nyāya nahīṁ hotā
jisameṁ mṛga-nāyaka bhāva bharā
vaha siṁha-suvana jagatā-sotā
pauruṣa kā prakhara prabhāva liye
mātā kā nāma baṛhātā hai
yaha deśa…

mātā ke praśna na hala hote
kāyara jana ke saṁkhyā bala se
ikalā dinakara tama ko haratā
lākhoṁ juganū se baṛhakara ke
jisameṁ hai sarvadamana kā bala
vaha bhārata-bhāgya vidhātā hai
yaha deśa dharama kā nātā hai
yaha kaṁkaṛa patthara reta nahīṁ yaha to māta hai mata hai
yuga-yuga se rakta liye āta yaha deśa-dharama kā nātā hai

Leave a Reply