Yeh Kal Kal Chal Chal Bahti-यह कल कल छल छल बहती

यह कल कल छल छल बहती

यह कल कल छल छल बहती क्या कहती गंगा धारा ?
युग युग से बहता आता यह पुण्य प्रवाह हमारा……………………।धृ

हम ईसके लघुतम जलकण बनते मिटते हेै क्षण क्षण
अपना अस्तित्व मिटाकर तन मन धन करते अर्पण
बढते जाने का शुभ प्रण प्राणों से हमको प्यारा………………।……।१

ईस धारा में घुल मिलकर वीरों की राख बही है
ईस धारामें कितने ही ऋषियों ने शरण ग्रही है
ईस धाराकी गोदि में, खेला ईतिहास हमारा…।………………………।२

यह अविरल तप का फल है यह राष्ट्रप्रवाह प्रबल है
शुभ संस्कृति का परिचायक भारत मां का आंचल है
हिंदुकी चिरजीवन मर्यादा धर्म सहारा…………………………।…………।३

क्या ईसको रोख सकेंगे मिटनेवाले मिट जायें
कंकड पत्थर की हस्ती कया बाथा बनकर आये
ढह जायेंगे गिरि पर्वत कांपे भूमंडल सारा………………………………।४

yaha kala kala Cala Cala bahatI

yaha kala kala Cala Cala bahatI kyA kahatI gaMgA dhArA ?
yuga yuga se bahatA AtA yaha puNya pravAha hamArA……………………|dhRu

hama Isake laGutama jalakaNa banate miTate he#0948; kShaNa kShaNa
apanA astitva miTAkara tana mana dhana karate arpaNa
baDhate jAne kA SuBa praNa prANoM se hamako pyArA………………|……|1

Isa dhArA meM Gula milakara vIroM kI rAKa bahI hai
Isa dhArAmeM kitane hI RuShiyoM ne SaraNa grahI hai
Isa dhArAkI godi meM, KelA ItihAsa hamArA…|………………………|2

yaha avirala tapa kA Pala hai yaha rAShTrapravAha prabala hai
SuBa saMskRuti kA paricAyaka BArata mAM kA AMcala hai
hiMdukI cirajIvana maryAdA dharma sahArA…………………………|…………|3

kyA Isako roKa sakeMge miTanevAle miTa jAyeM
kaMkaDa patthara kI hastI kayA bAthA banakara Aye
Dhaha jAyeMge giri parvata kAMpe BUmaMDala sArA………………………………|4

Leave a Reply