जब देश के सबसे अमीर उद्योगपतियों की चर्चा होती है तो लोगों के जहन में टाटा, बिरला, अंबानी जैसे चंद नाम सबसे पहले उभर कर आते हैं। भारत के सबसे धनवान लोगों में ज्यादातर पुरुषों के नाम ही शामिल है। लेकिन, आज हम आपको एक ऐसी महिला के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके नाम देश की सबसे अमीर महिला होने का गौरव हासिल है। 70 वर्षीय यह महिला आज देश के सबसे बड़े औद्योगिक घराने में से एक जिंदल का नेतृत्व करती हैं।

जी हाँ, हम बात कर रहे हैं 7.1 अरब डॉलर यानी 52,000 करोड़ रुपये से ज्यादा की संपत्ति की मालकिन सावित्री जिंदल की, जो देश की दिग्गज स्टील कंपनी जिंदल समूह की चेयरपर्सन हैं।

क्या है जिंदल समूह

जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड (JSPL) हिसार में स्थित एक भारतीय इस्पात और ऊर्जा कंपनी है। यह समूह भारत में इस्पात, बिजली, खनन, तेल, गैस और बुनियादी ढांचे में एक अग्रणी कंपनी है। जिंदल ग्रुप की स्थापना सावित्री जिंदल के पति ओमप्रकाश जिंदल ने की थी। साल 1952 में कोलकाता के पास में लिलुआ नामक स्थान में पाइप बेंड और सॉकेट बनाने की एक छोटी फैक्टरी से जिंदल (इंडिया) लिमिटेड का जन्म हुआ था। गौरतलब है कि टाटा और कलिंग के बाद, भारत में अपनी तरह की यह तीसरी फैक्टरी थी। इस उपलब्धि के चलते ओम प्रकाश जिंदल पश्चिम बंगाल और पूर्वी भारत में जल्द ही लोकप्रिय हो गए। कुछ वर्षों तक काम करने के बाद साल 1960 में वे अपने पैतृक जिला हिसार आ गए और यहां भी उद्योग लगाया। उन्होंने 34 औद्योगिक इकाइयां स्थापित की, जिसमें से 30 भारत में, तीन अमेरिका में और एक इंडोनेशिया में स्थित हैं।

कौन थे ओमप्रकाश जिंदल

मैन ऑफ स्टील के नाम से प्रसिद्ध ओम प्रकाश जिंदल तकनीकी एवं इंजीनियरिंग कार्यों में अत्यधिक रूचि रखते थे। हालांकि, उन्होंने तकनीकी एवं इंजीनियरिंग की कोई विधिवत शिक्षा नहीं ली थी लेकिन इन विषयों के प्रति गहरे लगाव ने उन्हें एक सफल उद्योगपति की सूची में ला खड़ा किया। एक किसान परिवार में जन्में, ओम प्रकाश ने खेती-किसानी से ही अपने करियर की शुरुआत की थी, फिर एक साधारण व्यापारी बनें, उसके बाद बाल्टी निर्माता और फिर अंतरराष्ट्रीय ख्याति के उद्योगपतियों की सूची में शुमार हुए।

माँ और चार बेटे मिलकर करते हैं कंपनी का नेतृत्व

साल 2005 में एक हवाई दुर्घटना में ओम प्रकाश जिंदल के देहावसान के बाद जिंदल समूह की बागडोर उनकी पत्नी सावित्री देवी जिंदल और चार बेटे पृथ्वी राज जिंदल, सज्जन जिंदल, रतन जिंदल और नवीन जिंदल के कंधे आ गई। जिंदल उद्योग समूह का मुख्य व्यवसाय स्टील से संबंधित है, फिर भी उसे चार वर्गों-पाइप्स, कार्बन स्टील, स्टेनलेस स्टील, रेल व ऊर्जा में बांटा जा गया है। आज पिता की तरह ही चारों पुत्र देश के कामयाब उद्योगपति माने जाते हैं और अपनी कंपनियों को नई ऊंचाईयों पर ले जाते हुए देश के औद्योगिक विकास में योगदान दे रहे हैं।

देश की सबसे अमीर महिला हैं सावित्री जिंदल

फोर्ब्स द्वारा जारी की गई सबसे अमीर भारतीय की सूची में सावित्री जिंदल 20वें स्थान पर हैं और महिला सूची में पहले पायदान पर। 36 वर्षों तक चारदीवारी के अंदर रहने वाली सावित्री आज विश्व की एक अग्रणी कंपनी का नेतृत्व कर रही हैं। उनकी कार्यकुशलता और नेतृत्वक्षमता वाकई में लोगों के लिए बेहद प्रेरणादायक है।

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply