मामुपेत्य पुनर्जन्म दु:खालयमशाश्वतम्। नाप्नुवन्ति महात्मान: संसिद्धिं परमां गता: ।। गीता 8/15।।

अर्थ : परम सिद्धि को प्राप्त महान आत्माएं, मुझको प्राप्त होकर दुःखालय व अशाश्वत पुनर्जन्म को प्राप्त नहीं होती।

व्याख्या : यह संसार दुखों से भरा है, यहां दुखों के अलावा और कुछ नहीं है, जिसको हम सुख कहते हैं वह सुख भी आखिर में दुःख की ही ओर ले जाता है। साथ ही यह संसार हमेशा बदलता रहता है, और कभी भी एक जैसा रहने वाला नहीं है, निरंतर बदलते रहने के कारण यह संसार दुःखदायी बना रहता है, इसलिए इस बदलते हुए संसार को अशाश्वत कहा जाता है।

योगी दुखों वा निरंतर बदलते हुए इस संसार से परे परमात्मा की शरण में चला जाता है, जिसके लिए वह निरंतर परमात्मा का चिंतन करता है और अंत में परमात्मा को ही प्राप्त हो जाता है, फिर उसके चित्त में परमात्मा के अतिरिक्त अन्य कोई भी भाव नहीं रहता।

ऐसी दिव्य और महान जीव आत्माएं इस संसार में बड़ी कम होती हैं और वे जीव आत्माएं फिर परमात्मा को प्राप्त कर हमेशा-हमेशा के लिए मुक्त हो जाती हैं, जिससे उनका पुनर्जन्म नहीं होता।

, , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply