शिव षडक्षर स्तोत्र || Shiv Shadakshar Stotra || Shiva Shadakshara Stotram
ओंकारसंज्ञाय समस्तवेद-पुराणपुण्यागमपूजिताय।

ओंकाररूप प्रियदर्शनाय ओंकाररूपाय नमः शिवाय॥१॥

नाना जराव्याधि विनाशनाय नाथाय लोकस्य जगद्धिताय ।

नाना कलाज्ञान निदर्शनाय तस्मै नकाराय नमः शिवाय ॥२॥

मात्सर्यदोषान्तक संभवाय मातुः पितुः दुःखनिवरणाय।

माहेश्वरी सूक्ष्मवराय नित्यं तस्मै मकाराय नमः शिवाय ॥३॥

शीलव्रतज्ञानदृढव्रताय शीलासुवर्णाय समुत्सुकाय।

शीघ्राय नित्यं सुरसेविताय तस्मै शिकाराय नमः शिवाय ॥४॥

वामार्धविद्युत्प्रतिमप्रभाय वचो मनः कर्म विमोचनाय।

वागीश्वरी सूक्ष्मवराय नित्यं तस्मै वकाराय नमः शिवाय ॥५॥

यक्षोरगेन्द्रादिसुरावृताय यक्षाङ्गनाजन्मविमोचनाय।

यक्षेषु लोकेषु जगद्धिताय तस्मै यकाराय नमः शिवाय ॥६॥

उत्फुल्लनीलोत्पललोचनायै कृशानुचन्द्रार्कविलोचनाय।

निरीश्वरायै निखिलेश्वराय नमः शिवायै च नमः शिवाय ॥७॥

, , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply