बहूनां जन्मनामन्ते ज्ञानवान्मां प्रपद्यते। वासुदेव: सर्वमिति स महात्मा सुदुर्लभ:।। गीता 7/19।।

अर्थ : अनेक जन्मों के अंत में जो ज्ञानवान मेरी शरण आकर ‘सब कुछ वासुदेव ही है’ इस प्रकार मुझको भजता है वह महात्मा अत्यंत दुर्लभ है।

व्याख्या : इच्छाओं, वासनाओं, संस्कारों व कर्मों के फलों को भोगने के लिए नया जन्म लेना पड़ता है। जब तक हमारे द्वारा किए गए कर्मों के फलों को हम भोग नहीं लेते, तब तक जन्म-मरण का सिलसिला चलता रहता है।

लेकिन जब हमारी रुचि परमात्मा को जानने में होती है, तब आध्यात्मिक यात्रा शुरू होती है और इस यात्रा में व्यक्ति भक्तियोग की साधना से प्रारब्ध कर्म को स्वीकार करने लगता है। कर्मयोग से अपने कर्मों में निष्काम भाव ले आता है और निरंतर ज्ञान-ध्यान से चित्त में पड़े संचित कर्मों का नाश कर देता है।

इस प्रकार का जन्म साधक का अंतिम जन्म होता है, इसमें वह जान जाता है कि जो घट-घट में वास कर रहा है, वहीं वासुदेव है और इस भाव से वह जीवन जीता हुआ परमात्मा को निरंतर भजन करता रहता है। इसलिए ऐसा महात्मा अत्यंत दुर्लभ है।

, , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply