उदारा: सर्व एवैते ज्ञानी त्वात्मैव मे मतम्।
आस्थित: स हि युक्तात्मा मामेवानुत्तमां गतिम्|| 7/18

ये सभी निश्चित रूप से उदार हैं, लेकिन ज्ञानी को मैं अपना ही आत्मा मानता हूं, क्योंकि वे हर तरफ घूमते-फिरते और कहीं भी रहने पर मुझमें ही स्थित हैं।

भगवान को हमेशा याद करने वाले सभी चारों तरह के भक्त उदार ही होते हैं। भले ही वे धन-दौलत की इच्छा से याद कर रहे हों या दुखों को दूर करने के भाव से या फिर परमात्मा को जानने के भाव से या आत्मा का ज्ञान पाने के लिए। इन चारों में जो चौथे तरह के ज्ञानी होते हैं, जिन्हें आत्मा का ज्ञान हो गया है, उन्हें भगवान अपनी ही आत्मा मानते हैं।

भगवान का मानना है कि आत्मा मेरा ही अंश है। ऐसे में आत्मा का ज्ञान हो जाने से लगातार साधना में लगा साधक परमात्मा में स्थित होने लगता है। फिर हमेशा आत्मा में युक्त रहने वाला योगी, संसार में सब कुछ करता हुआ, हर तरफ भ्रमण करता हुआ भी परमात्मा में ही स्थित रहता है।

, , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply