बलं बलवतां चाहं कामरागविवर्जितम्।
धर्माविरुद्धो भूतेषु कामोऽस्मि भरतर्षभ || गीता 7/11||

अर्थ : हे भरतश्रेष्ठ ! बलवानों का काम व राग रहित बल हूं और सब भूतों में धर्म के अनुकूल काम मैं हूं ।

व्याख्या : अपनी ईश्वरीय विभूतियों का वर्णन करते हुए भगवान् अर्जुन को कह रहे हैं कि ‘मैं’ ही बलवानों का बल हूं, लेकिन ऐसा बल जिसमें काम और राग न हो क्योंकि शुद्ध बल ही परमात्मा है, लेकिन जब उस बल में इच्छाएं और आसक्ति जुड़ जाती है तब वह बल अशुद्ध हो जाता है, उस समय ईश्वरीय शक्ति उस बल में नहीं रहती।

असलियत में व्यक्ति के पास जो भौतिक चीजें नहीं है उसको पाने का भाव ही इच्छा कहलाती है और जो हमारे पास है उसको मन से पकड़कर रखना ही राग कहलाता है। अतः काम व राग होने पर ईश्वरीय विभूति से हम दूर हो जाते हैं। ऐसे ही व्यक्ति में धर्म के अनुकूल जो काम का भाव उठता है वह ‘मैं’ ही हूं। अर्थात धर्म पर चलने व अपने स्वरूप को पाने की जो इच्छा है, वह ‘मैं’ ही हूं। इसप्रकार पिछले चार श्लोकों में भगवान् ने अपनी विभूतियों का वर्णन किया है।

, , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply