त्रैविद्या मां सोमपा: पूतपापा यज्ञैरिष्ट्वा स्वर्गतिं प्रार्थयन्ते।
ते पुण्यमासाद्य सुरेन्द्रलोक मश्र्नन्ति दिव्यान्दिवि देवभोगान्।।गीता 9/20||

अर्थ: तीनों वेदों के ज्ञाता, सोमरस पीने वाले, पापरहित पुरुष यज्ञों द्वारा मुझे पूजकर स्वर्गलोक को पाने की कामन करते हैं। वे अपने पुण्यफल से स्वर्गलोक पाकर वहां देवताओं के दिव्य सुखों को भोगते हैं।

व्याख्या: तीनों वेदों का ज्ञान प्राप्त कर जब साधक अंतर्मुखी यात्रा शुरू करता है, तब वह सहस्रार चक्र से निकलने वाले आनंद रूपी सोमरस का पान करने लगता है। इससे वह पाप कर्मों से बचा रहता है।

इस तरह वह कल्याण मार्ग का अनुसरण करता हुआ निरंतर दूसरों की भलाई रूपी यज्ञ और हवन करता है और परमात्मा को भजता है। वह स्वर्गलोक को पाने के लिए प्रार्थना करता है। इस तरह वह पुण्यफल पाकर स्वर्गलोक को जाता है और वहां देवताओं के दिव्य सुखों को भोगने लगता है।

, , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply