कबीर के दोहे

चलती चक्की देख कर‚ दिया कबीरा रोए दुई पाटन के बीच में‚ साबुत बचा न कोए बुरा जो देखण मैं...